बारिश क्यों होती है? इसके पीछे का कारण क्या है और बादल कैसे बनते हैं?

बारिश क्यों होती है ( Barish Kyu Hoti Hai), हम इंसान आज तक पृथ्वी और भ्रमण के कई रहस्य को समझाते सुलझाते आए हैं और आगे बहुत से रहस्य सुलझाने बाकी है। इनमें कुछ प्रक्रिया ऐसी है लेकिन वास्तविक में वह ब्रह्मांड की सबसे कठिन और जटिल प्रक्रिया में से एक है जिनके बिना शायद जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। पृथ्वी पर बारिश कैसे होती है, बादल से बरसात कैसे होती है, रात में बारिश क्यों होती है, बारिश कहां से होती है, आसमान से बारिश कैसे होती है, बारिश कौन करवाता है, बारिश कब होती है, बारिश कौन से महीने में होती है।

बारिश क्यों होती है ( Barish Kyu Hoti Hai)?

बारिश क्यों होती है
Barish Kyu Hoti Hai

बारिश क्यों होती है ( Barish Kyu Hoti Hai)

ऐसे ही कुछ रहस्य में से एक प्रक्रिया बारिश है। बारिश मनुष्य जीव जंतु पेड़ पौधे हमारे वातावरण के लिए बहुत ही अनिवार्य है। जब कभी नमी वाली गर्म हवा किसी ठंडे और उच्च दबाव वाले वातावरण के संपर्क में आ जाती है तब बारिश होती है।

गर्म हवा में ठंडी हवा से ज्यादा पानी इकट्ठा करती है और जब यह हवा अपने अंदर इकट्ठे पानी को ऊंचाई पर ले जाती है तो ठंडे जलवायु मैं मिल जाती है और अपने अंदर का जमा हुआ पानी के भारी हो जाने पर उसे नीचे गिराने लगती है। जिसे बारिश या वर्षा कहते हैं।

यह तो हम सभी ने पढा है और जानते भी हैं पृथ्वी पर बारिश पानी के रूप में होती है। धरती से पानी वाष्पित होकर पृथ्वी की सतह से ऊपर की ओर उठने लगता है और ठंडा होकर पानी के रूप में दुबारा धरती पर गिरता है।

आसमान में पानी कैसे पहुंचता है

लेकिन आसमान में यह पानी कैसे पहुंचता है? जब सूरज की किरने धरती पर पड़ती है तो उसे धीरे-धीरे गर्म करने लगती है जिस वजह से पानी के कण एक दूसरे से दूर होने लगते हैं और फिर यह कण‌ वास्पी विकृत होकर भाप में बदल जाती है। यह भाप बहुत हल्की होती है जिस वजह से धीरे-धीरे आसमान की ओर बहने लगती है।

बारिश क्यों होती है

हर 1000 फीट पर तापमान साडे 5 डिग्री कम होने लगता है जिसके कारण ऊपर उठने वाली भाप ठंडी होने लगती है। और दोबारा तरल रूप ले लेती है। जब पानी के छोटे कारण एक दूसरे में मिलने लगते हैं तो उन्हें हम बादल कहते हैं

यह कण बहुत ही हल्के होते हैं जिससे यह हवा में आसानी से उड़ने लगते हैं। पानी के इन कणों को जमीन पर गिरने के लिए लाखों बूंदों को मिलकर एक क्रिस्टल बनाना पड़ता है। बर्फ का क्रिस्टल बनाने के लिए इन्हें किसी ठोस चीज की आवश्यकता होती है।

क्रिस्टल का आधार का काम करता है। बारिश करवाने के लिए पृथ्वी के जंगलों में से आग से निकलने वाले धुंए से छोटे पार्टिकल्स, रेत के छोटे कण सूक्ष्मजीव और साथ ही अंतरिक्ष से आने वाले Micro Meteorites सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

बर्फ कैसे बनती है

ब्रह्मांड से आने वाले यह छोटे-छोटे कण बारिश करवाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं यानी Micro Meteorites करते हैं हर रोज भ्रमण से लगभग 2000 किलो Micro Meteorites पृथ्वी के वातावरण से टकराते हैं। इनका आकार बहुत छोटा होता है जिसके कारण इन्हें बहुत कम ही फ्रिक्शन का सामना करना पड़ता है।

जिस वजह से Micro Meteorites धीरे-धीरे बादलों में चला जाता है और पानी की बूंदों को क्रिस्टल बनने में मदद करता है। पानी के बूंदों से मिलने पर पानी इन कणो के आसपास क्रिस्टल आइस हो जाती है। यह प्रक्रिया दिन भर में कई बार होता है एक क्रिस्टल दूसरे पानी की बूंदों के लिए एक तरह से आधार का काम करता है छोटे-छोटे क्रिस्टल जब आपस में मिलते हैं तो बर्फ बनते हैं

जब इन बफ का वजन ज्यादा होने लगता है तो यह धरती पर गिरने लगता है जैसे-जैसे यह बर्फ नीचे गिरने लगते हैं तापमान बढ़ता है और यह बर्फ पिघल कर छोटी-छोटी पानी की बूंदों का रूप ले लेती है जिसे हम बारिश कहते हैं।

वर्षा के रूप :- बारिश कई रूप में धरती पर गिरती है

  • जब यह पानी तरल रूप में गिरता है तो इसे बारिश कहते हैं।
  • जब पानी तरल रूप के बदले ठोस रूप में गिरता है तो उसे हिमपात कहते हैं।
  • बारिश के साथ जब बर्फ के टुकड़े गिरने लगते हैं तो उसे (Hailstones ) ओले का गिरना कहते हैं ।
  • साथ ही कई जगह पर सर्दियों में पानी की बहुत ही छोटे बूंदे भी गिरती है इसे हम ओस‌ (Dew) कहते हैं।

अलग-अलग कारणों से होती है बारिश

बारिश कभी भी एक साथ हर जगह नहीं होती और एक समान नहीं होती। धरती पर बहुत सी प्रक्रियाएं हैं जिसके कारण कई स्थानों पर बारिश होती है। इन प्रक्रियाओं में से सबसे महत्वपूर्ण प्रक्रिया मानसून की प्रक्रिया को माना जाता है।

जिस वजह से एक ही इलाके में कुछ महीनों तक लगातार या फिर रुक-रुक कर बारिश होती है। कई बार बिना मौसम के भी बारिश हो जाती है जिसे स्थानीय वर्षा कहते हैं। कई बार समुद्री इलाकों में उठे चक्रवात के कारण भी आसपास के इलाकों में बारिश होती है।

किस जगह पर कब कैसे और कितनी बारिश होगी यह कई कारणों पर निर्भर करता है-समुद्र तल से दूरी, किसी इलाके में पेड़ पौधे की मात्रा, हवा के बहने का तरीका, पहाड़ों से दूरी ऐसे ही कई अन्य कारण और तत्व मिलकर यह तय करते हैं कि कौन से इलाके में कितनी बारिश होगी और कब होगी।

यह भी पढ़े –

Follow us on Google News:

savita kumari

मैं सविता मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं और मुझे शुरू से ही लिखना बहुत पसन्द है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। मैं candefine.com की कंटेंट राइटर हूँ मैं अपने अनुभव और प्राप्त जानकारी से सामान्य ज्ञान, शिक्षा, मोटिवेशनल कहानी, क्रिकेट, खेल, करंट अफेयर्स के बारे मैं जानकारी प्रदान करना मेरा उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *