आम खाने के फायदे, आम खाने से शरीर में होते है ये 26 फायदे

आम को फलों का राजा माना जाता है। यह इसके गुणों के कारण ही हुआ है। आम खाने के फायदे की वजह से यह एक उत्तम फल तथा एक अच्छी खुराक है। इसमें औषधीय गुण भी अपार हैं कई प्रकार के रोग ठीक करने में इसका सेवन लाभकारी होता है। यदि आम (Benefits of Mango) की ऋतु में इसे प्रतिदिन खाते रहें तथा बाद में इसके अचार, चटनी, मुरब्बा, जैम, रस खाते-पीते रहें तो आदमी स्वस्थ रहेगा। कई प्रकार के रोगों पर काबू पा सकेगा। अतः इसे अवश्य खाना चाहिए।

आम खाने के फायदे

आम खाने के फायदे

यह भी पढ़े – केला खाने के फायदे और उपयोग, केला खाने से शरीर में होते है ये 39 फायदे

देसी आम का रस चूसने में अपना ही मजा है। बाकी आम तो काटकर खाए जाते हैं पर देसी आम का काटना और परोसना आसान नहीं। इसे तो हाथों में जरा टीला करके, चूसा जाता है। पानी की बाल्टी आम भिगोकर रख दिए जाते हैं। ठंडे होने पर परिवार सहित इन्हें खाया चूसा जाता है। यदि इसके बाद लस्सी या ठंडा दूध पी लिया जाए तो बेशुमार लाभ होते हैं। दांत मजबूत, मसूड़े ताकतवर, रक्त में बढ़ोत्तरी, कब्ज का खुल जाना, चेहरे पर कांति तथा उदरपूर्ति भी होती है।

आम खाने के फायदे

  1. भारत में आम बहुत अधिक होता है तथा इसके लिए बड़े-बड़े उत्पादकों के विशाल बाग है।
  2. आम की तासीर गर्मतर मानी गई है। आम जितनी ज्यादा मीठा होगा, उतना ही अधिक गर्म भी होगा।
  3. खट्टे आम के खाने से कई हानियां होती हैं। यह जुकाम, नजला को बढ़ावा देता है। गला, दांत खराब हो जाते हैं।
  4. तुर्श आम स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। इससे रक्त बढ़ता है। स्वास्थ्य भी अच्छा होता है।
  5. खट्टा आम तो रक्त में भी विकार पैदा कर देता है।
  6. जिस आम में कम रेशे हों वह सबसे बढ़िया माना गया है।
  7. विटामिन ‘ए’ और ‘सी’ की उपलब्धता के लिए भी आम खाना अच्छा माना गया है।
  8. मक्खन से भी अधिक ताकत देता है आम।
  9. सेब से छः गुणा तथा संतरे से 35-40 गुणा विटामिन ‘सी’ होता है आम में है न कमाल। हुआ न फलों का राजा यह ।
  10. शरीर को अपार शक्ति मिलती है आम के सेवन से।
  11. नर्वस सिस्टम ठीक रखने के लिए भी वैद्य आम को खाने की सलाह देते हैं।
  12. जिन्हें बच्चा होने वाला हो उनके अपने तथा पेट में पल रहे बच्चे के लिए आम खाना बहुत उत्तम है।
  13. चूंकि आम की तासीर गर्म होती है, इसे ठंडे पानी में या बर्फ में डालकर रखें। ठंडा होने पर खाएं। इसकी गरमी खत्म हो जाएगी।
  14. आम खाने के बाद यदि दिल खराब होने लगे। भारीपन महसूस होने लगे तब थोड़ी-सी पिसी हुई सोंठ का सेवन करें।
  15. आम का सेवन कौलंज के रोग में लाभदायक होता है। बवासीर और संग्रहणी में भी इसको खाना अच्छा बताया गया है। हां बवासीर में ठंडा किया आम और ठंडा दूध थोड़ी मात्रा में लेना चाहिए।
  16. जिन लोगों को जिगर में तकलीफ है, उन्हें आम का खाना उचित नहीं यदि आम तुर्श हो तो जिगर के बीमार भी इसे खा सकते हैं।
  17. बवासीर के रोगी को आम का मुरब्बा थोड़ी मात्रा में जरूर लेना चाहिए।
  18. मेढ़े और दिल को मजबूत करने के लिए आम का मुरब्बा बेहतर खुराक मानी गई है।
  19. स्वस्थ रहने के लिए आम का आचार थोड़ी मात्रा में ले लेना चाहिए।
  20. आम के अचार से नजला, खांसी, जुकाम हो जाते हैं। अतः ऐसी शिकायत में आम का अचार नहीं खाना चाहिए।
  21. जिन्हें आम आसानी से पचते नहीं, वे आम खाने के बाद जामुन खा लें आम तुरन्त पच जाएंगे।
  22. भले ही कितने स्वादिष्ट क्यों न हो, आम उचित मात्रा में ही खाने चाहिए। अधिक खाने से नुकसान भी हो सकता है।
  23. जिन्हें नींद नहीं आती, उनके लिए आम खाना तो एक दवा है। उन्हें चाहिए कि सोने से पहले आम खाकर ठंडा दूध पी लें। फिर घोड़े बेचकर सो सकते हैं।
  24. प्रातः खाली पेट आम कभी न खाएं। यह हानिकारक सिद्ध हो सकता है। दोपहर के खाने के साथ, या बाद में आम खाना बहुत अच्छा माना गया है।
  25. जो लोग लस्सी उपलब्ध कर सकते हैं और पी भी सकते हैं, उन्हें आम खाने के बाद इसे पीना चाहिए बहुत लाभ होगा और शरीर चुस्त हो जाएगा।
  26. आम को आम आदमी भी खा सकता है तथा खास भी सेवन कर सकता है। पर इससे होने वाला लाभ तो खास ही होता है। अतः आम की ऋतु में इसे भोजन का मुख्य अंग बना लें ताकि कोई दिन खाली न जाए।

यह भी पढ़े – लौकी के 12 लाभों जानकर शुरू करें इसे खाना और स्त्रियों के लिए है विशेष

Follow us on Google News:

Mamta Jain

मैं ममता जैन मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं। मुझे लिखना काफी पसन्द है और अब मैने यही मेरा प्रोफेशन बना लिया है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। हेल्थ, स्वास्थ्य, मनोरंजन, सरकारी योजना, क्रिकेट, न्यूज़ और ब्यूटी पर लिखने में मेरा स्पेशलाइजेशन है। हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी जानकारी जानने के लिए मुझे फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *