खून को साफ करने का अच्छा उपाय है सुबह की सैर

खून को साफ करने का अच्छा उपाय है सुबह की सैर, हमारा रक्त पूरे शरीर से होता हुआ शरीर की गंदगी को फेफड़ों तक पहुंचा देता है। कार्बन डाईआक्साइड ही यह गंदगी है जो श्वास क्रिया द्वारा बाहर निकल जाती है। हमारी सांस के साथ आक्सीजन फेफड़ों में पहुंचती है। रक्त इसे पाकर फिर से शरीर का दौरा करता है। यह प्रोसैस चलाता ही रहता है। इसी प्रोसैस से, आक्सीजन द्वारा रक्त शुद्ध होता रहता है। प्रातः की हवा में अत्यधिक आक्सीजन होती है। मतलब प्रातः की सैर रक्त-स्वच्छता का काम बखूबी पूरा करती है। जो सैर को नहीं निकलते, वे शरीर की बड़ी हानि करते हैं।

खून को साफ करने का अच्छा उपाय

खून को साफ करने का अच्छा उपाय

यह भी पढ़े – बदहजमी (अपच) के घरेलू उपाय, पेट में बदहजमी हो जाए तो करें ये काम

खून साफ करने का उपाय

  • व्यक्ति हर एक मिनट में अमूमन 15 बार श्वास अन्दर लेता है और 15 ही बार इसे बाहर निकालता है। मतलब एक बार का श्वास-निःश्वास 4 सैकंड में सर्कल पूरा कर लेता है।
  • व्यक्ति जब लम्बे पग भरता है या दौड़ता है तो यह क्रिया और भी कम समय में पूरी होती है तथा श्वास-प्रश्वास की गति बढ़ जाती है।
  • यदि सांस तेज़ी से लेंगे तो फेफड़े अधिक गतिशील होंगे तथा रक्त का दौरा भी तीव्र हो जाएगा। इससे रक्त-शुद्धि भी जल्दी होने लगती है।
  • रक्त शुद्ध होने का अर्थ है अन्दर की समूची सफाई। यह कार्य प्रातः की ताजा हवा में जाने से, सैर करने से, बखूबी हो जाता है।
  • फेफड़े अधिक शक्तिशाली हो जाते हैं। पूरे शरीर की, विशेषकर टांगों व भुजाओं की अच्छी कसरत हो जाती है।
  • सैर हमारे मोटापे को घटाने में मदद करती है। चुस्ती प्राप्त होती है।
  • पेट के रोग जैसे कब्ज आदि खत्म होते हैं। पेट साफ हो जाता है।
  • सैर से पाचन क्रिया तीव्र होती है। मांसपेशियां मजबूत होती हैं।
  • श्वास सदा नाक से लें। सैर के समय, या भागते समय भी वायु में मिले जीवाणु मुंह के द्वारा अन्दर न जाएं, इसलिए भी नाक से काम लें।
  • सैर करते, बहुत लम्बे पग भरते, बीच में थोड़ी दौड़ भी लगा लेनी चाहिए। इससे अच्छा व्यायाम हो जाता है।
  • सैर के समय हाथ में छड़ी लेने से, भुजाओं का व्यायाम हो जाता है।
  • सैर के समय धीमे न चलें। लम्बे कदम, एक ही गति से उठाएं।
  • एक ठीक सेहत वाला व्यक्ति सैर में आने-जाने की चार कि.मी. की दूरी ज़रूर तय करे। पांच कि.मी. कर ले तो और बेहतर। मगर कमज़ोर, रोगी व्यक्ति अपने शरीर की क्षमता अनुसार सैर करे। अधिक टाइट कपड़े पहनकर सैर को न जाएं। खुली हवा भी लगती रहे इसलिए खुले वस्त्र पहनने से अधिक लाभ मिलता है।

प्रातः के खुले वातावरण में आक्सीजन भरपूर मात्रा में वायुमंडल में विद्यमान रहती है। सारी वायु तो आक्सीजन नहीं। अन्य गैसें भी इसमें रहती हैं। प्रातः की वायु में सैर को निकलने से अधिक जो अधिक ऑक्सीजन मिलेगी, ” जो रक्त शुद्धि करने का काम करती है।

यह भी पढ़े – बेमेल खाना इन खाद्य पदार्थ को मिलाकर बिलकुल नहीं खाये हो सकता है स्वस्थ को बड़ा नुकसान, विरुद्ध आहार की संपूर्ण सूची

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment