गाजर है गुणों का भंडार जाने गाजर के 24 गुण के बारे में और उसके प्रयोग

गाजर है गुणों का भंडार जाने गाजर के 24 गुण के बारे में और उसके प्रयोग क्या है। गाजर इतनी महंगी नहीं, जितने इसमें गुण हैं। यह तो अनेक गुणों की भण्डार है जिसे गरीब भी आसानी से, कम पैसों में खरीद सकता है। जितने गुण गाजर में हैं शायद ही इस मूल्य में कुछ और उपलब्ध हो सकता हो। हमारे शरीर के लिए गाजर बहुत उपयोगी है। हमारे स्वास्थ्य को उत्तम रखने में गाजर का योगदान सराहनीय है। अतः जब तक बाजार में उपलब्ध रहे, प्रतिदिन गाजर खानी चाहिए। कई रोगों की तो गाजर दवा भी है। गाजर फल है। सब्जी है।

गाजर है गुणों का भंडार जाने गाजर के 24 गुण के बारे में और उसके प्रयोग

गाजर है गुणों का भंडार जाने गाजर के 24 गुण के बारे में और उसके प्रयोग

यह भी पढ़े – शलगम का उपयोग करें इन 14 तरीके से होंगे अचूक फायदे

इसे कच्चा, पकाकर, सलाद के रूप में, आचार बनाकर, रस निकालकर, मुरब्बा के रूप में, कद्दूकस करके, इसका हलवा बनाकर, गाजार पाक तैयार करके, सूप में, अनेकानेक तरीकों से इसे खाया जा सकता है। समय, स्थान, रुचि, आवश्यकता का ध्यान रख गाजर का लाभ उठाया जा सकता है। गाजर जितनी ताजा होगी, लाल होगी, उतनी अधिक गुणकारी होगी। गाजर पीले रंग की भी होती है। यह भी अच्छी है। गाजर काले रंग की भी होती है जिसकी अक्सर कांजी बनाई जाती है। गाजर का प्रतिदिन सेवन न करना, इसके गुणों से आंख मूंदना होता है। सामान्य स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए भी गाजर का उपयोग करना चाहिए।

प्रयोग और गुण

  1. गाजर का रस पीने से नया रक्त बनता है। रक्त की कमी दूर होती है। शरीर सबल होता है।
  2. यह खून में वृद्धि तो करती ही है। खून को साफ भी करती है।
  3. हमारी हड्डियों को मजबूत करने में भी गाजर अपना काम करती है।
  4. हमारे मेदे को ठीक करने, हृदय को सुदृढ़ करने में भी गाजर अचूक तथा उत्तम होती है।
  5. आंखों की ज्योति बढ़ाने के लिए भी गाजर खानी चाहिए। इससे आंखों की कमजोरी तथा कुछ अन्य रोग भी ठीक होते हैं।
  6. इसे कैसे भी खाएं, इससे विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ प्राप्त हो जाते हैं। काटने से पहले गाजर को धोना चाहिए। बाद में नहीं। विटामिन नष्ट नहीं होने देने चाहिए।
  7. फास्फोरस तथा शक्कर भी गाजर में उपलब्ध रहती है।
  8. कैल्शियम और लोहा की उचित मात्रा गाजर में समाई रहती है। इसे खाकर इन तत्त्वों को प्राप्त कर लेना चाहिए।
  9. जिन्हें पेशाब करने में दिक्कत होती है। पेशाब कम आता है तथा जलन होती है। गाजर खाने से यह तकलीफ दूर हो जाती है।
  10. कब्ज के मरीजों को भी गाजर खाने से खुलकर पाखाना हो जाता है।
  11. यदि किसी का पेट खराब रहता हो। दस्तों के कारण दिक्कत रहती हो। गाजर खाने से लाभ होगा। पुराने दस्तों का रोग भी ठीक हो जाएगा।
  12. यदि अपच हैं। मेदा खराब है। शरीर में कई प्रकार के विकार हैं। इन सबमें फायदा करती है गाजर।
  13. यदि किसी को पीलिया की शिकायत हो गई है तो गाजर तथा गाजर का रस, इस रोग से मुक्त करने में सहायता करते हैं।
  14. मसाने की पथरी भी गाजर को खाने व गाजर का रस प्रतिदिन पीने से घुलने लगती है तथा नुकसान से बचाती है।
  15. गाजर को खाने से बवासीर का प्रकोप घटता है। तकलीफ कम होती है। धीरे-धीरे ठीक होने लगते हैं।
  16. संग्रहणी में भी गाजर फायदा करती है।
  17. यदि गाजर को बिना पकाए, बिना उबाले, कच्ची अवस्था में उपयोग करें तो इससे बेशुमार फायदे उठाए जा सकते हैं। अतः इसे कच्चे रूप में खाने की आदत बनाएं।
  18. उबली हुई गाजर से जो पानी निकाला जाए, उसे कभी फेंकना नहीं चाहिए। इसे सूप के रूप में पी लें अथवा अन्य दाल-सब्जी में प्रयोग करें। फेंकें मत।
  19. गाजर को कद्दूकस करके खाने से, इसको निचोड़कर रस पीने से, बहुत फायदा होता है।
  20. जब गाजर को सीधे तौर पर कच्चा खाएं तो इसे खूब चबा-चबाकर खानी चाहिए। ताकि शीघ्र पच सके।
  21. जिन्हें पुरुषत्व की कमी होने लगे यौवन शक्ति कम लगे। उन्हें गाजर 1 का मुरब्बा खाना चाहिए। बहुत लाभ होगा।
  22. गाजर को उबालकर, कूटकर, फोड़े पर बांधने से, फोड़े का मुंह पक जाएगा और आराम मिलेगा।
  23. गाजर को कद्दू कसकर, दूध में उबाल कर, हलवा बनाकर खा सकते हैं।
  24. गाजर को कद्दू कसकर, कड़ाही में डालकर घी में भूनकर, सुखाकर, इसमें खोया मिलाकर खाने से अपूर्व शक्ति प्राप्त होती है।

गाजर का रस, कच्ची गाजर, इसका आचार, मुरब्बा, सब्जी, सुप, किसी प्रकार से प्रयोग करें। सर्दियों में मिलने वाली गाजर को प्रतिदिन किसी-न-किसी तरह खाएं। इसे गुड़ के साथ भी खा सकते हैं। इससे खून तथा बल में वृद्धि होगी।

यह भी पढ़े – फल और सब्जियों के छिलके को करें इन 8 कामों में इस्तेमाल मिलेगा फायदे

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Follow us on Google News:

Mamta Jain

मैं ममता जैन मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं। मुझे लिखना काफी पसन्द है और अब मैने यही मेरा प्रोफेशन बना लिया है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। हेल्थ, स्वास्थ्य, मनोरंजन, सरकारी योजना, क्रिकेट, न्यूज़ और ब्यूटी पर लिखने में मेरा स्पेशलाइजेशन है। हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी जानकारी जानने के लिए मुझे फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *