सर्वाइकल पेन क्या होता है इन हिंदी? सर्वाइकल पेन का आयुर्वेदिक इलाज?

सर्वाइकल पेन क्या होता है इन हिंदी (Cervical Pain Kya Hota Hai In Hindi)। इसे नजर अंदाज ना करे यह बन सकती है। आपके जीवन की बहुत बड़ी समस्या। लगातार पढ़ाई लिखाई करने से या कंप्यूटर पर या लैपटॉप पर काम करने से अक्सर गर्दन में दर्द की शिकायत आती है। गर्दन का अकड़ जाना, गर्दन में दर्द होना या फिर उससे हिलाने डुलाने में परेशानी होना यह आम समस्या है। लेकिन अगर इस दर्द को लंबे समय तक आप नजरअंदाज करते रहेंगे तो यह दर्द भयानक रूप ले सकता है। यह दर्द सर्वाइकल पेन का शुरुआती लक्षण है।

सर्वाइकल पेन क्या होता है इन हिंदी (Cervical Pain Kya Hota Hai In Hindi)?

सर्वाइकल पेन क्या होता है इन हिंदी
Cervical Pain Kya Hota Hai In Hindi

यह भी पढ़े – स्पॉन्डिलाइटिस क्या होता है? स्पॉन्डिलाइटिस के लक्षण क्या है?

सर्वाइकल पेन क्या होता है इन हिंदी (Cervical Pain Kya Hota Hai In Hindi)?

जी हां सर्वाइकल कुछ और नहीं बल्कि गर्दन के दर्द को ही कहा जाता है। लेकिन सर्वाइकल पेन में गर्दन के हिस्से वाली रीड की हड्डी के जोड़ों तथा डिस्क में समस्या उत्पन्न होने से सर्वाइकल का रूप ले लेती है।

डॉक्टरों के अनुसार यह माना गया है कि गर्दन की हड्डी शरीर के उन हड्डियों में शामिल होती है जिनका हम सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हैं और यह पूरे सिर का वजन भी संभालती है लेकिन यह गर्दन की हड्डी बाकी रीड की हड्डी के मुकाबले कमजोर भी होती है इसलिए इसका विशेष ध्यान रखना पड़ता है।

आज के समय में सर्वाइकल पेन इतनी आम बात हो चुकी है कि इसकी शिकायत छोटे बच्चों में भी पाई जा रही है। सर्वाइकल पेन को ठीक करने के लिए लोग कई तरह के व्यवहार व्यायाम योगा करते हैं। यदि समय पर सर्वाइकल पेन का इलाज ना हो पाए तो यह गंभीर रूप धारण कर सकता है इसलिए यह जरूरी है कि लोगों को इस विषय पर ज्यादा से ज्यादा और सही जानकारी मिले ताकि वह इसे समय पर कंट्रोल कर सके।

सर्वाइकल के लक्षण

सर्वाइकल पेन के कई सारे लक्षण होते हैं जो आपका शरीर आपको काफी समय पहले से ही देने लग जाता है। जरूरी तो यह है कि आप इन सभी लक्षण को सही समय पर समझ पाए। आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिख रहे हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें क्योंकि यह सर्वाइकल के लक्षण हो सकते हैं जिनका सही समय पर इलाज जरूरी है:-

चलने फिरने में परेशानी

अगर आपको रोजाना चलने फिरने में भी गर्दन में हल्की सी दर्द की शिकायत बार-बार आ रही है तो इसे हल्के में ना लें क्योंकि आगे चलकर यह सर्वाइकल का रूप धारण कर लेगी।

शरीर में ऐठन आना

अगर आपके गर्दन में या फिर हाथ पैरों की मांसपेशियों में किसी प्रकार का बेचैनी महसूस होती है या फिर किसी भी प्रकार की एंडथन आती है तो यह सर्वाइकल का रूप धारण कर सकती है इसे हल्के में ना लें।

आंतों की प्रक्रिया में बदलाव आ जाना

अगर आपके आंतों की कार्यप्रणाली में किसी भी तरह का बदलाव आने लगे और यह बदलाव लंबे समय तक होता रहे तो भी यह सर्वाइकल का रूप ले सकती है इसलिए तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें।

सर्वाइकल पेन का कारण

क्या आप जानते हैं कि सर्वाइकल पेन के कई कारण है जिनमें से सर्वाइकल का मुख्य कारण है -हमारी जीवनशैली होती है।

चोट लगना

अगर कभी भी आपके गर्दन में चोट लग जाए तो भविष्य में वह सर्वाइकल का रूप धारण कर सकती है इसलिए अगर चोट लगे तो उसका तुरंत इलाज करवा ले जिससे भविष्य में वह सर्वाइकल का रूप ना ले सके।

गर्दन में किसी तरह का झटका या दबाव

कई बार ऐसा होता है कि गलत तरीके से सोने की वजह से गर्दन में किसी तरह का झटका या दबाव सा महसूस होता है और दर्द भी होता है उसे इग्नोर ना करें क्योंकि ऐसे दर्द में अगर आप कोई वजन का सामान उठाते हैं या किसी प्रकार का एक्सरसाइज करते हैं तो वह सर्वाइकल का रूप धारण कर सकती है।

रीड की हड्डी में खिंचाव आना

सर्वाइकल का एक मुख्य कारण रीड की हड्डी में खिंचाव आना भी है आप इसका इलाज करवा सकते हैं इसके इलाज का नाम है – माइक्रोडिसेक्टोमी सर्जरी।

गलत तरीके से सोने के कारण

गलत तरीके से सोने के कारण भी आपको कई बार गर्दन में दर्द की शिकायत हो सकती है। यह दर्द आगे चलकर सर्वाइकल का रूप धारण कर लेती है। अगर आप गलत तरीके से सोते हैं तो फौरन उसे बदल दीजिए और अपने सोने की मुद्रा को सही कर लीजिए। जिससे कि आपकी रीड की हड्डी पर किसी प्रकार का दबाव ना पड़े और ऊंची तकिया लगा कर सोने से भी सर्वाइकल पेन होता है।

तनाव के कारण

कई बार लोग यह मानने से इनकार कर देते हैं कि सर्वाइकल होने की बड़ी वजह तनाव है। जबकि जब तनाव व्यक्ति के शरीर में अधिक मात्रा में होने लगे तो उसका असर सीधा शरीर पर पड़ता है और जिस वजह से सर्वाइकल की दिक्कत पैदा होती है और अन्य कई दिक्कतें भी हो सकती है।

सर्वाइकल का उपचार

जब व्यक्ति शुरुआत में इसको नजरअंदाज करता है सर्वाइकल पेन गंभीर रूप लेता है कई लोग का यह मानना है कि इसका कोई इलाज नहीं है लेकिन सर्वाइकल का इलाज है और यह पूरी तरह ठीक किया जा सकता है।

सर्वाइकल पेन का आयुर्वेदिक इलाज

सबसे पुरानी चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद मैं आज भी कई गंभीर रोगों का निवारण कर सकती है। सर्वाइकल के लिए आयुर्वेद में कई तरह की दवाइयां और फिर भी है जो सर्वाइकल पेन को पूरी तरह खत्म कर सकती है लेकिन आयुर्वेदिक इलाज में थोड़ा अधिक समय लगता है इसलिए आपको धैर्य रखना होगा और आयुर्वेदिक इलाज का कोई दुष्प्रभाव भी नहीं है।

सर्वाइकल पेन का योग से इलाज

ना सिर्फ भारत में बल्कि पूरे विश्व में लोग योग को अधिक महत्व देते हैं क्योंकि आज की दुनिया में कई रोग सिर्फ योग से ही पूरी तरह ठीक हो जाते हैं। यदि कोई व्यक्ति सर्वाइकल की गंभीर समस्या से परेशान है तो योगासन से उसे पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। जैसे – सूर्य नमस्कार ,वक्रासन और भुजंगासन इन योगासन उसे सर्वाइकल में आराम मिलता है।

सर्वाइकल पेन का फिजियोथेरेपी से इलाज

आज के युग में फिजियोथैरेपी से लगभग हर प्रकार के रोगों से राहत मिलती है इसलिए इसका प्रचलन काफी बढ़ गया है। फिजियोथेरेपी से सर्वाइकल पेन में भी आराम मिलता है और इसमें कई तरह के व्यायाम है जो पूरी तरह राहत दे ते हैं।

यह भी पढ़े – स्किन कितने प्रकार की होती है? स्किन में कितनी लेयर होती है?

Follow us on Google News:

Mamta Jain

मैं ममता जैन मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं। मुझे लिखना काफी पसन्द है और अब मैने यही मेरा प्रोफेशन बना लिया है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। हेल्थ, स्वास्थ्य, मनोरंजन, सरकारी योजना, क्रिकेट, न्यूज़ और ब्यूटी पर लिखने में मेरा स्पेशलाइजेशन है। हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी जानकारी जानने के लिए मुझे फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *