चिरायता पीने के फायदे, चिरायता कौन कौन सी बीमारी में काम आता है?

चिरायता एक ऐसी औषधि है जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं चिरायता पीने के फायदे (Chirata Ke Fayde in Hindi) हमारे लिए बहुत ही लाभकारी होता है। यह जड़ी बूटी हिमालय में पाई जाती है और इसका स्वाद काफी कड़वा होता है। इसका प्रयोग खासकर बुखार में किया जाता है यदि किसी को हड्डियों का बुखार है तो यह उसके लिए रामबाण औषधि के रूप में काम करती है। इसके साथ-साथ यह हमारे पेट की पाचन क्रिया को भी दुरुस्त बनाती है। यदि इसका उचित मात्रा में सेवन किया जाए तो यह कई बीमारियों के लिए रामबाण औषधि का काम करती है।

चिरायता पीने के फायदे

चिरायता पीने के फायदे

यह भी पढ़े – भिंडी खाने के बाद भूलकर भी न खाएं ये 2 चीजें वरना खराब हो सकता है स्वस्थ?

चिरायता पीने के फायदे

भारत की प्राचीन आयुर्वेद चिकित्सा में चिरायता का प्रयोग काफी किया जाता था परंतु आज के समय में इस जड़ी बूटी का प्रयोग कम हो गया है यह जड़ी बूटी हमारी शरीर मैं कई रोगों में काफी फायदेमंद होती है यदि इसका उचित मात्रा में सेवन किया जाए। इसका स्वाद काफी कड़वा होता है परंतु जितनी यह कड़वी होती है यह हमारे लिए उतनी ही फायदेमंद भी होती है। हमारे शरीर की कई समस्याओं से बचाने में चिरायता का सेवन काफी फायदेमंद बताया गया है।

1. वजन घटाने में सहायक

चिरायता का सेवन करने से हमारे पाचन तंत्र को काफी मजबूत करता है और यह हमारी पेट से जुड़ी समस्याएं जैसे- गैस्ट्राइटिस, अपच , पेट में गैस, सूजन और पेट दर्द में काफी मददगार होता है। चिरायता के अंदर रिचर्ड गुण मौजूद होता है यह हमारे पेट में बनने वाली कब्ज को खत्म करने में काफी मददगार होता है। यह हमारे मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है जिससे हमारे शरीर को वजन घटाने में काफी मदद मिलती है।

2. बुखार में फायदेमंद

बुखार के मरीजों के लिए चिरायता का सेवन काफी फायदेमंद होता है। भारत की प्राचीन आयुर्वेद प्रणाली में चिरायता का प्रयोग बुखार नाशक के रूप में किया जाता था। यदि किसी को पुराना बुखार है या फिर हड्डियों में बुखार पहुंच गया है तो चिरायता का सेवन उसके लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। यदि आपको बुखार है और बुखार सही नहीं हो रहा है तो आपको चिरायता का सेवन भी करना चाहिए इससे आपका पुराना से पुराना बुखार भी ठीक हो सकता है।

3. शुगर कंट्रोल करने में सहायक

जिन व्यक्ति को शुगर की समस्या है या फिर जिनको शुगर ज्यादा बढ़ गई है तो ऐसे मरीजों को चिरायता का सेवन करना चाहिए चिरायता के सेवन से उनकी शुगर कंट्रोल हो सकती है। इसका सेवन करने से हमारे शरीर की कोशिकाओं में ग्लूकोज की मात्रा को बढ़ाकर ब्लड शुगर के स्तर को कम करने के गुण पाए जाते हैं। यदि इसका सेवन कुछ दिन तक किया जाए तो डायबिटीज के मरीजों की कब्ज की भी समस्या से छुटकारा मिल सकता है और ब्लड शुगर को आसानी से कंफर्म किया जा सकता है।

4. लिवर डिटॉक्स मैं सहायक

लीवर खराब होने पर कई समस्याएं हो जाती हैं जिसमें पीलिया जैसी समस्या होना स्वभाविक है यदि आप चिरायता का सेवन करते हैं तो इसमें मौजूद हेपेटोप्रोटेक्टिव और हेपेटोस्टिमुलेटिव गुड़ मौजूद होते हैं जो हमारे लिवर को काफी ज्यादा प्रभावित करते हैं यह जड़ी-बूटी हमारे लिवर के लिए काफी फायदेमंद होती है। यह हमारे लिवर के ऊपर शक्तिशाली प्रभाव डालता है कमजोर लिवर को सामान्य स्तर तक लाने में यह काफी मददगार होता है यह हमारे लिवर को साफ और डिटॉक्सिफाई करके उसकी कार्यक्षमता को सुधरता है।

5. स्किन के लिए फायदेमंद

यदि आपकी स्किन बेजान हो गई है और की मुहांसों जैसी समस्या से परेशान हैं तो आपको चिरायता के पानी से अपना मुंह और स्किन को धोना चाहिए ऐसा करने से आपकी त्वचा के ऊपर काफी असर डालती हैं जिससे आपकी त्वचा पर निकलने वाले कील मुंहासे और खुजली हाथी जैसी समस्याओं से आपको छुटकारा मिल सकता है। यह हमारी स्किन कि कई प्रकार की समस्याओं को दूर करने में काफी मददगार साबित हो सकती है।

6. दिमाग के लिए लाभदायक

यदि आप अपने दिमाग के कार्य करने की क्षमता कम हो गई है या फिर आप ज्यादा तनाव में रहते हैं तो आपको चिरायता कस सेवन अवश्य करना चाहिए क्योंकि चिरायता के अंदर स्वर्टियामार्टिन नामक तत्व पाया जाता है यह हमारे ब्रेन के अंदर मेटाबोलाइट को उत्पन्न करता है जिससे हमें तनाव और चिंता जैसी समस्याओं में काफी आराम पहुंचता है। यह हमारी सेंट्रल नर्वस सिस्टम की समस्या में काफी प्रभावी होता है जिससे हमारे दिमाग के कार्य करने की प्रणाली को काफी मजबूती मिलती है।

चिरायता का सेवन कैसे करें

चिरायता का सेवन किसी भी प्रकार से किया जा सकता है यदि आप इसका काढ़ा बनाकर पिए तो यह काफी फायदेमंद होता है। चिरायता का चूर्ण बनाकर दूध के साथ भी पिया जा सकता है। दोनों तरह से चिरायता का सेवन करना हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है। चिरायता का पानी बनाने की विधि-

  • सूखा या कच्चा चिरायता प्रयोग में लें
  • एक कप पानी में इसको 1/4 होने तक उबालें
  • पानी को छानकर निकालने और दिन में दो बार इसका सेवन करें।
  • कुछ परिस्थितियां ऐसी होती है जिसमें आप खाली पेट भी इसका सेवन कर सकते हैं।

यह भी पढ़े – गर्भनिरोधक अंतरा इंजेक्शन क्या है? और अंतरा इंजेक्शन के साइड इफेक्ट्स?

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.