चॉकलेट खाने के फायदे क्या-क्या है? जाने प्रेगनेंसी में चॉकलेट खाने के फायदे?

शरीर पर चॉकलेट खाने के फायदे (Chocolate Khane Ke Fayde) क्या-क्या है, कई लोगों का शौक होता है चॉकलेट खाना और खिलाना। लोग चॉकलेट बड़े चाव से खाते हैं। कई लोग अपने प्यार का इजहार चॉकलेट देकर भी करते हैं। जाने चॉकलेट खाने के फायदे ह‍िंदी में। 1 दिन में कितनी चॉकलेट खानी चाहिए इसके बारे में जानना बहुत ही जरुरी है। डेरी मिल्क खाने के क्या फायदे हैं? डार्क चॉकलेट खाने के फायदे जानकर रह जायेंगे हैरान और डार्क चॉकलेट कब खाना चाहिए।

चॉकलेट खाने के फायदे (Chocolate Khane Ke Fayde)

चॉकलेट खाने के फायदे

चॉकलेट खाने के फायदे ह‍िंदी में (Chocolate Khane Ke Fayde)

चाहे मदर्स डे हो या रक्षाबंधन या वैलेंटाइन डे हो या किसी का जन्मदिन हो या फिर शादी की सालगिरह लोग अक्सर किसी को खुश करने के लिए चॉकलेट भेंट में देते हैं। आइए हम आपको बताते हैं चॉकलेट खाने क्या होता है।

चॉकलेट होता तो बहुत टेस्टी है और साथ में यह हेल्दी भी है। आमतौर पर चॉकलेट तो हर किसी को पसंद ही है लेकिन लड़कियों को कुछ खास ही पसंद होता है और इसे हेल्दी भी माना गया है आइए हम आपको बताते हैं कि चॉकलेट खाने से क्या फायदे होते हैं:-

स्ट्रेस कम करने के लिए

डार्क चॉकलेट में ऑक्सीडेटिव पाया जाता है जो व्यक्ति में तनाव पैदा करने वाले और मन स्कोर नियंत्रित करता है जिससे व्यक्ति का तनाव मुक्त रहता है साथ ही चॉकलेट में सेरोटोनिन भी पाया जाता है जो एक तरह का एंटी डिप्रेसेंट है।

हार्ट को हेल्दी रखने के लिए

इस व्यक्ति को ब्लड प्रेशर की समस्या अक्सर रहती है उन्हें दिल की बीमारी का ज्यादा खतरा होता है डार्क चॉकलेट खाने से हमारा ब्लड प्रेशर काफी हद तक कंट्रोल में रहता है जिसके कारण दिल की बीमारी होने का खतरा टल जाता है।

चॉकलेट हमारी बॉडी से बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मददगार साबित हुआ है एक शोध से पता चला है कि डार्क चॉकलेट खाने से हार्ट अटैक का खतरा लगभग 50% कम हो जाता है और कॉनेरी से खतरा लगभग 10% कम हो जाता है।

मूड स्विंग में लाभदायक

चॉकलेट खाने से हमें एक तरह की संतुष्टि मिलती है जिसका हमारे शरीर पर काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। जब कोई व्यक्ति का मूड अच्छा नहीं रहता या मूड स्विंग रहता है।

उस समय चॉकलेट खाना सबसे ज्यादा फायदेमंद बताया गया है यह हमारे दिमाग के लिए काफी हद तक फायदेमंद होता है। चॉकलेट महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान होने वाले मूड स्विंग को संतुलित करने में मददगार साबित हुआ है।

वजन कम करने में

कैलिफोर्निया के एक विश्वविद्यालय में किए गए अध्ययन से यह पता चला है कि जो व्यक्ति एक नियमित रूप से चॉकलेट का सेवन करते हैं उनका बॉडी मास इंडेक्स कम पाया गया है उनके मुकाबले जो चॉकलेट का सेवन नहीं करते या कम करते हैं।

झुर्रियां कम करता है

चॉकलेट में कोको फ्लैवननॉल पाया जाता है जिसे एक एंटी एजर माना गया है यह हमारी बढ़ती उम्र से होने वाले बदलाव को कम करता है इससे आपकी त्वचा हमेशा जवां दिखेगी।

आपने देखा होगा कि आजकल पार्लर में चॉकलेट फेशियल, चॉकलेट पैक, चॉकलेट वैक्स और चॉकलेट बाथ का इस्तेमाल किया जाने लगा है। एक शोध में यह बताया गया है कि रोजाना हॉट चॉकलेट के दो कप पीने से बुजुर्ग लोगों का मानसिक स्वास्थ्य सही रहता है साथ ही उनके सोचने समझने की क्षमता बढ़ जाती है।

गर्भावस्था में चॉकलेट खाना होता है लाभकारी

जो गर्भवती महिला अपने गर्भावस्था के समय चॉकलेट खाती हैं उनका बच्चा काफी हंसमुख और स्वस्थ रहता है। एक शोध में यह पाया गया है कि जो गर्भवती महिला चॉकलेट नहीं खाती हैं उनकी तुलना में जो महिला गर्भ अवस्था में चॉकलेट खाती हैं उनके बच्चे ज्यादा स्वस्थ पाए गए हैं।

असमय मृत्यु होने की संभावना कम हो जाती है

एक शोध में यह पाया गया है कि चॉकलेट का सेवन असमय मृत्यु को लगभग 8% कम कर देता है। जो व्यक्ति लगातार हर दिन चॉकलेट खाता है वह चॉकलेट ना खाने वाले की तुलना में कुछ साल ज्यादा जीते हैं।

ब्लड सरकुलेशन को सही रखता है

फ्लावोन्वाइड्स चॉकलेट में पाया जाने वाला का तत्व है जो शरीर का ब्लड सरकुलेशन को संतुलित रखने में मददगार साबित हुआ है।

दर्द में भी है उपयोगी

चॉकलेट खाने के बाद हमारे शरीर में एंडोफिजिन नाम का हार्मोन एक्टिव होने लगता है जो हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाले दर्द को कम करता है। महिलाएं अगर मासिक धर्म में चॉकलेट खाती हैं तो उनको मासिक धर्म से होने वाली पीड़ा में भी आराम मिलता है।

खांसी को कम करता है

खांसी के समय चॉकलेट का सेवन काफी फायदेमंद माना गया है इससे काफी हद तक खांसी कम हो जाती है।

एथेरोस्क्लेरोसिस में भी है उपयोगी

एथेरोस्क्लेरोसिस एक प्रकार का रोग होता है। इसमें आपकी धमनियों के अंदर क्लॉक सा बन जाता है। धनिया का कार्य यह होता है कि वह ऑक्सीजन युक्त रक्त को आपके शरीर के सभी अंगों तक पहुंचाती है। जिससे हमारे शरीर में ऑक्सीजन की कमी नहीं होती।

यह भी पढ़े –

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.