चुकंदर के फायदे? चुकंदर हमारे शरीर के लिए है कितना गुणकारी?

चुकंदर के फायदे (Chukandar Ke Fayde) जानकर आप रेह जायेंगे हैरान। रोज चुकंदर खाने से ब्लड बनता है हमारे शरीर के अंदर। चुकंदर एक मसूला जड़ है जो की लगभग साल भर पाया जाता है। इसका इस्तेमाल सलाद, जूस के रूप में सब्जी मैं सेवन किया जाता है। यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है बल्कि सौंदर्य दृष्टि से भी चुकंदर बहुत फायदेमंद है। चुकंदर एक शाक्य पौधा है इसकी पत्तियां मूली और सरगम जैसी होती है। यह बैगनी लाल रंग की होती है। चुकंदर दिसंबर से फरवरी तक के महीने में फलता है।

चुकंदर के फायदे (Chukandar Ke Fayde)

चुकंदर के फायदे
Chukandar Ke Fayde

चुकंदर के फायदे (Chukandar Ke Fayde)

इसमें ऐसे कई चमत्कारी गुण पाए जाते हैं जो स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियों को दूर कर सकता है यह ठंडी तासीर का होता है। चुकंदर के इस्तेमाल से होमो ग्लोबिन बढ़ता है और इसकी जड़ कफ निकालने में मदद करती है चुकंदर के पत्ते के सेवन से मूत्र संबंधी परेशानियां, सूजन, सिरदर्द, लकवा, कान दर्द, कब्ज में राहत मिलती है। और इसके बीच सेक्स की इच्छा को बढ़ाता है।

यह एक ऐसी सब्जी है जिसके कई सारे स्वास्थ्य और सौंदर्य फायदे हैं। इसे बीटरूट के नाम से भी जाना जाता है। चुकंदर कई तरह के बीमारियों में लाभदायक होता है।

सिर दर्द में

अक्सर काम के तनाव के कारण या फिर ठंड लग जाने पर कई लोगों को सिर दर्द की समस्या होती है। कभी-कभी आधा सर दर्द होने की भी शिकायत होती है ऐसे में चुकंदर के जड़ का रस नाक में एक बूंद डालने से आधा सर का दर्द ठीक हो जाता है।

बाल झड़ने की समस्या में

चुकंदर के पत्तों के रस को बालों के जड़ों में लगाने से बाल झड़ना कम हो जाता है। अगर आप चाहे तो चुकंदर के पत्तों में हल्दी मिलाकर पीसकर लगाने से भी बालों का झड़ना कम हो जाता है।

रूसी की समस्या से

ठंड के मौसम में अक्सर कई लोगों को रूसी की शिकायत होती है जिसके कारण खुजली और बाल झड़ना भी शुरू हो जाते हैं चुकंदर के तने से काढ़ा बनाकर अगर उससे सिर को धोया जाए तो रूसी की समस्या दूर हो जाती है।

आंखों का बुखार (आंख आना) की समस्या से

चुकंदर के कंद का रस अगर कान के पीछे कनपटी पर लगाने से आंख आने या आंख के बुखार के दर्द में राहत मिलती है।

दांत दर्द और मुंह के छाले की समस्या से

किसी व्यक्ति को दांत में दर्द हो या फिर मुंह में छाले बार-बार आते हो तो चुकंदर के पत्ते का काढ़ा बनाकर उसे गरारा करने पर दोनों समस्याओं में राहत मिलती है।

खांसी की समस्या से

किसी व्यक्ति को अगर खांसी से राहत नहीं मिल पा रही तो चुकंदर के जड़ और बीज के इस्तेमाल से दमा रोग खांसी तथा सांस लेने में तकलीफ इस समस्या से राहत मिलती है।

कान दर्द की समस्या से

कभी-कभी कान मैं दर्द की समस्या की वजह का पता नहीं चल पाता ऐसे में चुकंदर के पत्ते के रस को हल्का गुनगुना करके कान में दो-दो बूंद डालने से कान में दर्द और सूजन की समस्या से राहत मिलती है।

पेट की समस्या से

बाहर का खा लेने से या फिर खाने में हुई गड़बड़ी के कारण कई बार पेट में दर्द लाजमी अपच की समस्या उत्पन्न हो जाती है चुकंदर के 2 ग्राम बीज का चूर्ण बनाकर सेवन करने से पेट का फूलना कब जैसी समस्या में राहत मिलती है।

बवासीर की समस्या से

बवासीर की समस्या ऐसी समस्या है जो बहुत कष्टदायक होती है और कोई व्यक्ति इसे शर्म के कारण डॉक्टर से इलाज में नहीं करवाता। चुकंदर के जड़ का चूर्ण बनाकर घी के साथ 21 दिनों तक लगातार सेवन करने से बवासीर की समस्या में लाभ मिलता है। चाहे तो चुकंदर का काढ़ा बनाकर 10 से 30 मिली रोजाना भोजन के एक घंटा पहले और रात में सोने से पहले पीने से कब्ज और खूनी बवासीर में राहत मिलती है

सूजन और मोच की समस्या

चुकंदर के ताजे पत्तियों को पीसकर मोच वाले हिस्से पर लगाने से दर्द और सूजन में आराम मिलता है। इनको अल्सर के घाव पर लगाने से भी आराम मिलता है।

जले के दर्द में आराम दिलाता है

चुकंदर के पत्तों का काढ़ा बनाकर उसे ठंडा करके शरीर के जले हुए हिस्सों पर लगाने से आराम मिलता है।

झाइयां हटाता है

ज्यादा समय धूप में रहने से या प्रदूषण में रहने से चेहरे पर बहुत जल्दी झाइयां पड़ने लगती है ऐसे में चुकंदर के पत्ते का रस शहद में मिलाकर चेहरे पर लगाने से झाइयां तथा दाग धब्बे खत्म हो जाती है।

मिर्गी की समस्या से

चुकंदर के पत्ते का रस नाक में एक या दो बूंद डालने से मिर्गी की समस्या में लाभ मिलता है। चुकंदर के कंद का रस भी नाक में डालने से मिर्गी की समस्या अपस्मार और आधे सिर के दर्द में आराम मिलता है।

FAQ

Q1 : चुकंदर की तासीर क्या है?

Ans : चुकंदर ठंडी तासीर का होता है।

Q2 : चुकंदर खाने से ब्लड बनता है क्या?

Ans : हाँ चुकंदर खाने से ब्लड बनता है।

Q3 : चुकंदर में कौन सा विटामिन पाया जाता है?

Ans : चुकंदर में मिनरल्स, आयरन, कैल्शियम एवं विटामिन पाये जाते है।

यह भी पढ़े –

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Follow us on Google News:

Mamta Jain

मैं ममता जैन मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं। मुझे लिखना काफी पसन्द है और अब मैने यही मेरा प्रोफेशन बना लिया है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। हेल्थ, स्वास्थ्य, मनोरंजन, सरकारी योजना, क्रिकेट, न्यूज़ और ब्यूटी पर लिखने में मेरा स्पेशलाइजेशन है। हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी जानकारी जानने के लिए मुझे फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *