कंप्यूटर क्या है कंप्यूटर का इतिहास, परिभाषा और उसकी विशेषताएं हिंदी में

आज हम बात करेंगे कंप्यूटर क्या है, घर में शायद कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं होगा जिसने कंप्यूटर का नाम सुना नहीं हो ज्यादातर लोग कंप्यूटर को एक ऐसी मशीन मानते हैं। जो सब कुछ कर सकते हैं। हालांकि यह कहना तो बहुत सही नहीं होगा ही कंप्यूटर सब कुछ कर सकता है। इस आर्टिकल में हम बताएँगे की कंप्यूटर क्या है कंप्यूटर का इतिहास और परिभाषा। 

कंप्यूटर क्या है? – What is Computer in Hindi?

कंप्यूटर क्या है

कंप्यूटर क्या है (What is Computer in Hindi)

परंतु इसमें संदेह नहीं कि वह बहुत कुछ कर सकता है और वह भी बहुत तेजी से तथा सही सही यही कारण है की दुनिया में कंप्यूटर की संख्या बढ़ती ही जा रही है।

कंप्यूटर की परिभाषा

कंप्यूटर एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो अपनी मेमोरी में मौजूद निर्देशों के आधार पर काम करता है। यह डाटा इनपुट को ग्रहण कर उसे तय नियम के अनुसार व्यवस्था बंद प्रोसेस कर परिणाम निकालता है और साथ ही भविष्य में इस्तेमाल हेतु उसे स्टोर भी करता है उसे इनपुट कहते हैं।

प्रोसेस किए गए परिणाम को आउटपुट कहते हैं। यानी कि कंप्यूटर आउटपुट निकालने के लिए इनपुट को प्रोसेस करता है। इसके साथ ही कंप्यूटर स्टोरेज नामक क्षेत्र में भविष्य में उपकरण के लिए आंकड़ों और सूचनाओं को स्टोर भी करता है। कंप्यूटर में जो डाटा डाला जाता है उसे इनपुट कहते हैं प्रोसेस किए गए परिणाम को आउटपुट कहते हैं यानी कि कंप्यूटर आउटपुट निकालने के लिए इनपुट को प्रोसेस करता है।

इसके साथ ही कंप्यूटर स्टोरेज नामक क्षेत्र में भविष्य में उपयोग के लिए आंकड़ों और सूचनाओं को स्टोर भी करता है जो व्यक्ति कंप्यूटर के माध्यम से संचार करता है या फिर इससे प्राप्त जानकारी का इस्तेमाल करता है उसे यूजर कहते हैं।

इलेक्ट्रिक इलेक्ट्रॉनिक और मैकेनिक उपकरण जिनसे कंप्यूटर बनता है हार्डवेयर कहलाते हैं। कंप्यूटर के वह भाग जिन्हें छुआ और महसूस किया जा सकता है हार्डवेयर की श्रेणी में आते हैं जैसे कीबोर्ड प्रिंटर मॉनिटर स्पीकर और माउस।

कंप्यूटर का महत्व

आजकल हर आदमी जिसने कंप्यूटर का नाम सुना है। वह इसका महत्व भली भांति जानता है बड़ी-बड़ी कंपनियों और सरकारी दफ्तरों में डाटा को स्टोर करने के लिए और उसकी देखभाल करने में तो कंप्यूटर का प्रयोग होता ही है।

बिजली और टेलीफोन के बिल बनाने रेलवे के बरसो या सीटों का आरक्षण रिजर्वेशन करने जैसे आम जनता के कार्यों में भी कंप्यूटर का बहुत उपयोग होने लगा है यह दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है शिक्षा तथा मनोरंजन के क्षेत्र में भी कंप्यूटरों का प्रयोग बड़े पैमाने पर किया जा रहा है।( कंप्यूटर क्या है )

वर्तमान व्यस्त दिनचर्या के समय में जीवन के लगभग प्रत्येक क्षेत्र में कंप्यूटरों का प्रयोग अनिवार्य हो गया है क्योंकि कंप्यूटर हमारे अमूल्य समय की बचत करता है दूसरी ओर आंकड़ों की बड़ी हुई मात्रा के कारण उनका मानव द्वारा रखरखाव करना जटिल होता जा रहा है।

आज तक आप कंप्यूटर के बहुत सी विशेषताओं के बारे में जान गए होंगे कंप्यूटर की कुछ विशेषताओं के कारण कंप्यूटर आज मनुष्य का सबसे बड़ा विश्वास करने योग्य मित्र बन गया है।

उसके कुछ मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं। किसी भी काम को बहुत तेजी से करना जो और जितना काम बताया जाए वह और उतना ही काम करना हर काम को पूरी तरीके से सही सही करना अपनी ओर से कोई भूल या गलती ना करना अपना काम बिना रुके बिना किसी मदद के करते रहना आंकड़ों के भंडार को कम जगह में संग्रह करके रखना तथा आवश्यकता पड़ने पर उन्हें सरलता से तुरंत उपलब्ध कराना।

कंप्यूटर की पीढ़ियां

पहली पीढ़ी कंप्यूटर

पहली पीढ़ी कंप्यूटरों की शुरुआत 1951 के दशक में यूनीवैक के साथ हुई इसमें वेक्यूम ट्यूब का इस्तेमाल किया गया और इसकी मेमोरी तरल पारे और विद्युतीय ड्रम्स की पतली गली से निर्मित की गई थी।

दूसरी पीढ़ी कंप्यूटर

1950 के दशक के अंत में दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में वैक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांसिस्टर ने ले ली और मेमोरी आईबीएम 1401 हनीवेल 800 के लिए मैग्नेटिक कोर का निर्माण होने लगा कंप्यूटर का आकार छोटा हो गया और विश्वसनीयता भी बढ़ गई।

तीसरी पीढ़ी कंप्यूटर

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर की शुरुआत 1960 के दशक के मध्य में हुई इसमें पहली बार इंटीग्रेटेड सर्किट आईबीएम 360a सीडीसी 64100 और ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल हुआ इसमें ऑनलाइन सिस्टम्स का बड़े पैमाने पर विकास हुआ इस समय के कंप्यूटर में पंच कार्ड और विद्युतीय टिप्स का इस्तेमाल कर बैच पर आधारित प्रोसेसिंग हुआ करती थी।

चौथी पीढ़ी कंप्यूटर

इसकी शुरुआत 1970 के दशक के मध्य में हुई इस समय कंप्यूटर को बनाने में चिप का इस्तेमाल होने लगा जिसके चलते छोटे प्रोसेसेस माइक्रो प्रोसेसर और निजी कंप्यूटर पर्सनल कंप्यूटर अस्तित्व में आए इस समय के कंप्यूटरों में डिसटीब्युटेड प्रोसेसिंग और ऑफिस ऑटोमेशन की शुरुआत हुई इस दौरान क्यूरी भाषाओं रिपोर्ट राइटर्स और स्प्रेडशीट्स की वजह से काफी संख्या में लोग कंप्यूटर से जुड़े।

पांचवी पीढ़ी कंप्यूटर

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर में कंप्यूटिंग के कई बेहतरीन तरीकों जिसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डिस्टिक ब्यूटी एंड प्रोसेसिंग को शामिल किया गया।

कंप्यूटर आर्किटेक्चर ( Computer Architecture )

कंप्यूटर मुख्यतया तीन भाग से मिलकर बना हैं।

  1. इनपुट डिवाइस ( Input Device)
  2. आउटपुट डिवाइस ( Output Device)
  3. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट ( Central Processing Unit)
  4. मेमोरी यूनिट ( Memory Unit)

इनपुट डिवाइस ( Input Device )

इनपुट डिवाइस वे हार्डवेयर डिवाइस होते है. जो की कंप्यूटर से जुड़े होते है और हम इस के जरिये कंप्यूटर को हम अपनी भाषा में कार्य करने के लिए आदेश या डेटा देते है और कंप्यूटर इससे बाइनरी कोड ( Binary Code ) में बदल कर CPU को आगे भेज देता है।

आउटपुट डिवाइस ( Output Device )

कंप्यूटर को दिये गये आदेश या डेटा को प्रदर्शित (Result) जिस यूनिट का हम उपयोग करते है उसे आउट पुट डिवाइस कस्ते है। आउटपुट यूनिट का क्या कार्य है। कंप्यूटर को दिये गये निर्देशों को हमारी भाषा या चित्र के रूप में रिजल्ट दिखता है।

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट ( Central Processing Unit )

CPU कंप्यूटर का बहुत ही महत्व पूर्ण भाग होता है। इसको कंप्यूटर का ब्रेन ( Brain ) भी कहा जाता है। कि जहा पर अरिथमेटिक और लॉजिकल ऑपरेशन्स (Arithmetic or Logical Operations) होते है और जहा पर डेटा (Data) को डिकोड (Decode) किया जाता है।

मेमोरी यूनिट ( Memory Unit )

मैमोरी यूनिट ( Memory Unit ) कंप्यूटर के अंदर का वह भाग होता है जिस में हम अपना डेटा को संगृहीत करके रख सकते है मैमोरी यूनिट केहलाता है। 

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है ?

मुख्यतया कंप्यूटर तीन प्रकार के होते है।

  1. एनालॉग कंप्यूटर ( Analog Computer )
  2. डिजिटल कंप्यूटर ( Digital Computer )
  3. हाइब्रिड कंप्यूटर ( Hybrid Computer )

एनालॉग कंप्यूटर ( Analog Computer )

इस प्रकार के कंप्यूटर का प्रयोग तापमान नापने, लेन्थ नापने, भूकंप को नापने अदि में किया जाता है। इस प्रकार के कंप्यूटर का प्रयोग साइंटिस्ट (scientist) करते है।

डिजिटल कंप्यूटर ( Digital Computer )

साधारण तया हम जिस कंप्यूटर का प्रयोग अपने घर में करते है। इस प्रकार के कंप्यूटर को जब हम डेटा देते है तो ये उस को 0 और 1 के फॉर्म में रिड करता है।

हाइब्रिड कंप्यूटर ( Hybrid Computer )

इस प्रकार के कंप्यूटर में एनालॉग कंप्यूटर ( Analog Computer ) और डिजिटल कंप्यूटर ( Digital Computer ) के सारे गुण होते है। जैसे – ECG.

Q1 : कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया?

Ans : कंप्यूटर का जनक चार्ल्स बैबेज ( Charles Babage ) को कहा जाता है।

Q2 : विश्व कंप्यूटर सुरक्षा दिवस कब मनाया जाता है?

Ans : 2 दिसंबर को प्रति वर्ष पूरा विश्व कंप्यूटर सुरक्षा दिवस के रूप में मनाता है।

Q3 : आधुनिक कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था?

Ans : आधुनिक कंप्यूटर का अविष्कार Alan Turing को कहा जाता हैं।

Q4 : पहला कंप्यूटर आर्किटेक्चर कब प्रस्तुत किया गया था?

Ans : पहला कंप्यूटर आर्किटेक्चर John Von Neumann के द्वारा 1948 में पस्तुत किया गया था।

Q5 : भारत में निर्मित सबसे पहला पर्सनल कंप्यूटर कौन सा है?

Ans : भारत में निर्मित सबसे पेहला पर्सनल कंप्यूटर सिद्धार्त था।

Follow us on Google News:

Arjun

मेरा नाम अर्जुन है और मैं CanDefine.com में एडिटर के रूप में कार्य करता हूँ। मैं CanDefine वेबसाइट का SEO एक्सपर्ट हूँ। मुझे इस क्षेत्र में 3 वर्ष का अनुभव है और मुझे हिंदी भाषा में काफी रुचि है। मेरे द्वारा स्वास्थ्य, कंप्यूटर, मनोरंजन, सरकारी योजना, निबंध, जीवनी, क्रिकेट आदि जैसी विभिन्न श्रेणियों पर आर्टिकल लिखता हूँ और आपको आर्टिकल में सारी जानकारी प्रदान करना मेरा उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.