साइबर बुलिंग क्या है? साइबर बुलिंग से कैसे बचे और किन बातो का रखे ध्यान?

हम आपको साइबर बुलिंग क्या है (Cyber Bullying Kya Hai) और साइबर बुलिंग से खुद को कैसे बचाएं के बारे में बताएंगे इसके साथ ही हम भी अभी बताएंगे की इंडिया में साइबर क्राइम की शिकायत कैसे और कहां करें? साइबर बोले एक ऐसा खतरा है जिसका सामना बड़े से लेकर बच्चे तक सभी को करना पड़ता है।

साइबर बुलिंग क्या है (Cyber Bullying Kya Hai)

Cyber Bullying Kya Hai

साइबर बुलिंग क्या है (Cyber Bullying Kya Hai)

यह अपराध डिजिटल माध्यम से किया जाता है। दर्शन शुरुआत में कभी हमें यह एहसास नहीं हो पाता कि कोई हमारे साथ ऑनलाइन बदमाशी (Bullying) कर रहा है या बदमाशी करने की कोशिश कर रहा है।

डिजिटल माध्यम से हमारे साथ बदमाशी करने वाला व्यक्ति कोई जान पहचान का या फिर अनजान व्यक्ति भी हो सकता है या फिर हमारे दोस्त रिश्तेदार भी हो सकते हैं। क्योंकि सोशल मीडिया या गेमिंग पोर्टल पर यह लोग धोखे से किसी को अपना दोस्त बना लेते हैं और फिर जब बात आगे बढ़ जाती है तो किसी प्रकार के गंदे मैसेज या सीधे धमकी देने लगते हैं।

साइबर बुलिंग से कैसे बचें

साइबर बुलिंग ऐसा शब्द है जो 2 शब्दों को मिलाकर बनता है इसमें फाइबर का मतलब होता है मोबाइल, टेक्नोलॉजी ,कंप्यूटर, इंटरनेट और बुलिंग का मतलब होता है धमकाना ,परेशान करना, डराना, डरा धमका कर कोई गैर कानूनी काम करवाना।

आसान भाषा में यदि कहा जाए तो इसका मतलब यह है कि सोशल मीडिया केसर के पहले किसी से दोस्ती करना बातचीत करना और फिर जब बात आगे बढ़ जाए तो जानबूझकर उन्हें धमकाने वाले मैसेज या वीडियो भेजना जानबूझकर परेशान करना कमेंट करना गंदे गलत वीडियो और इमेज भेज कर धमकाना और उनसे कोई गैर कानूनी काम करवाना।

धमकाने के लिए वह व्यक्ति आपको यह मेल कर सकता है टेक्स्ट मैसेज भेज सकता है सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर या वेबपेज पर या फिर चैट का उपयोग कर आपको गलत वीडियो या फोटो भेज सकता है।

बच्चों और उनके जीवन पर साइबर बुलिंग का बहुत गहरा और बुरा प्रभाव पड़ता है यहां तक कि उनको मानसिक शारीरिक मनोवैज्ञानिक और भावात्मक रूप से भी बुरा प्रभाव पड़ जाता है।

जो व्यक्ति साइबर बुलिंग के जरिये परेशान करता है उसकी पहचान करना शुरुआती तौर पर बहुत मुश्किल हो जाता है क्योंकि यह आपका जानकार व्यक्ति हो सकता है या फिर अनजान भी हो सकता है।

खुद को साइबर बुलिंग से कैसे बचाएं

यदि आप खुद को साइबर बुलिंग से बचाना चाहते हैं या अपने परिवार में किसी सदस्य को साइबर बुलिंग से बचाना चाहते हैं तो इन बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है:-

  • यदि आप या आपके परिवार में कोई सदस्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का सादा इस्तेमाल करता है तो यह ज्ञात रहे कि किसी भी अनजान व्यक्ति का फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट ना करें। सोशल मीडिया पर दोस्ती सिर्फ उन्हीं से रखें जिन्हें वह ऑफलाइन भी जानते हो।
  • दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी किसी भी तरह की पर्सनल इंफॉर्मेशन जैसे मोबाइल नंबर एड्रेस या कोई दूसरी पर्सनल इंफॉर्मेशन बिल्कुल भी शेयर ना करें। अपनी सोशल मीडिया की प्राइवेसी सेटिंग में यह सेलेक्ट करें कि आपके पोस्ट को कौन-कौन देख सकता है।
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपना फोन नंबर बैंक के डिटेल्स अकाउंट नंबर या किसी भी तरह का कोई पासवर्ड किसी भी व्यक्ति से शेयर ना करें।
  • अपने कंप्यूटर एवं मोबाइल से कोई भी डेटिंग एप ऑनलाइन गेम अनवांटेड सॉफ्टवेयर या कोई एप्लीकेशन को निकाल दे अनइनस्टॉल कर दें और कोई भी एप या सॉफ्टवेयर को अननोन सोर्स से इंस्टॉल ना करें।
  • आपको कोई व्यक्ति किसी प्रकार की खराब मैसेज भेजता है तो तुरंत उस पर प्रतिक्रिया ना दें। यदि यह मैसेज किसी फ्रेंड द्वारा भेजा गया है तो उस से निवेदन करें कि दोबारा इस प्रकार के मैसेज ना भेजें और अपने माता-पिता को या गार्जियन को इस बात की सूचना अवश्य दें।यदि दोबारा कोई खराब मैसेज भेजे तो उसकी सूचना तुरंत साइबरक्राइम डिपार्टमेंट को दे।
  • आप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर है और कोई पोस्ट रिमूव करना चाहते हैं तो यह बेहद मुश्किल काम होता है इसलिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कोई भी पोस्ट अपलोड करने से पहले दो तीन बार जरूर विचार कर ले। भारत में सबसे ज्यादा फेसबुक के जरिए साइबर बुलिंग का शिकार होते हैं।

यदि आप भी साइबर बुलिंग का शिकार बन गए हैं तो क्या करें? यदि आपके साथ कोई साइबर बुलिंग कर रहा है तो क्या करें?

यदि आप भी सोशल मीडिया पर साइबर बुलिंग का शिकार बन गए हैं तो ऐसी परिस्थिति को मैनेज करने के लिए नीचे दिए गए सुझाव आपके लिए उपयोगी हो सकते हैं:-

  • अपने बड़े, माता-पिता या गार्जियन को सूचित करें। क्योंकि वह आपसे बड़े हैं और उन्हें जिंदगी का अच्छा तजुर्बा है वह आपकी अच्छी तरह मदद कर सकेंगे और आपको अच्छा मार्गदर्शन भी दे सकेंगे।
  • यह जानने की कोशिश करें कि धमकाने वाला व्यक्ति कौन हो सकता है इस बात का पता लगाने के लिए आप अपने दोस्त एवं परिवार के लोगों की मदद भी ले सकते हैं।
  • यदि परेशान करने वाला व्यक्ति सोशल मीडिया के जरिए आपको परेशान कर रहा है तो कोशिश करिए कि आप उसका नंबर या उसकी आईडी को परमानेंट ब्लॉक कर दे किसी भी सोशल मीडिया अकाउंट पर यह सुविधा उपलब्ध होती है।
  • परेशान करने वाले व्यक्ति के भेजे गए फोटो मैसेज एवं वीडियो को सेव करके रखें जिससे आगे चलकर किसी भी कानूनी प्रक्रिया में किसी प्रकार की दुविधा ना हो।
  • सोशल मीडिया या किसी अन्य माध्यम से जो व्यक्ति आपको परेशान कर रहा है उनके धमकी वाले मैसेज या पोस्ट पर कभी भी किसी प्रकार का क्रोधित उत्तर ना दें।
  • धमकाने वाला व्यक्ति यदि आप के मना करने के बाद भी आपको बार-बार परेशान कर रहा है तो डरने के बजाय अपने निकट पुलिस स्टेशन में जाकर इसकी सूचना पुलिस को दें।

Follow us on Google News:

Kamlesh Kumar

मेरा नाम कमलेश कुमार है। मैं मास्टर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन (Master in Computer Application) में स्नातकोत्तर हूं और CanDefine.com में एडिटर के रूप में कार्य करता हूँ। मुझे इस क्षेत्र में 3 वर्ष का अनुभव है और मुझे हिंदी भाषा में काफी रुचि है। मेरे द्वारा स्वास्थ्य, कंप्यूटर, मनोरंजन, सरकारी योजना, निबंध, जीवनी, क्रिकेट आदि जैसी विभिन्न श्रेणियों पर आर्टिकल लिखता हूँ और आपको आर्टिकल में सारी जानकारी प्रदान करना मेरा उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *