गर्भावस्था में क्या सावधानी रखनी चाहिए तथा उपचार

गर्भावस्था में क्या सावधानी रखनी चाहिए तथा उपचार क्या है। युवतियों को गर्भ धारण करने तथा मां बनने की जितनी लालसा रहती है, उतनी कोई भी अन्य तमन्ना नहीं होती। उन्हें गर्भकाल में कोई परेशानी न आए तथा प्रसव ठीक हो जाए, इसकी वे सदा प्रार्थना भी करती हैं। इसे जानिए।

गर्भावस्था में क्या सावधानी रखनी चाहिए तथा उपचार

गर्भावस्था में क्या सावधानी रखनी चाहिए तथा उपचार

यह भी पढ़े – चर्म रोग ठीक करने के उपाय, सफाई व खान-पान से चर्म रोग भगाएं

गर्भावस्था में क्या सावधानी रखनी चाहिए

  • गर्भ धारण कर चुकी महिला को भुने हुए मटरों को गुड़ के साथ खाना चाहिए। ऊपर से गाय का दूध पीना चाहिए। यह गर्भ का पोषण व रक्षा करेगा। पूरा वक्त आराम से कटेगा।
  • गर्भ स्राव का भय न रहे तथा समय से पूर्व बच्चा न गिर जाए, इसके बचाव के लिए 3 ग्राम सौंठ तथा 3 ग्राम मुलहठी को दूध के साथ लेती रहें। आशंका खत्म होगी।
  • प्रसव का समय आ गया हो और बच्चे को पैदा करने के लिए जच्चा को बहुत कठिनाई हो रही हो तो ऐसे में असली केसर दो माशा, अर्क केवड़ा पांच तोला पीसें । जच्चा को पिलाएं। बच्चा शीघ्र पैदा हो जाएगा। कोई तकलीफ न होगी।
  • पेट में पल रहा बच्चा ठीक रहे। उसका सही विकास हो। उसकी सेहत भी ठीक रहे। इसके लिए गर्भवती स्त्री को चौलाई का साग तथा अजमोद का सेवन करते रहना चाहिए। बच्चे का पोषण भी ठीक होगा। कोई विकार न होगा।
  • बच्चा पैदा करने में कठिनाई का आभास हो रहा हो तो महिला को अजवायन खिलाकर गर्म पानी पिला दें। या उसे अजवायन की चाय पिलाएं। बड़ी आसानी रहेगी।
  • बच्चे के जन्म का समय तो हो चुका हो, मगर बहुत कठिनाई हो रही हो-बच्चा फिर भी पैदा न हो रहा हो तो अमलतास की फली का छिलका उतारें। एक तोला कपास का डोडा लें। एक तोला गुड़। इन सबको पानी में उबालें । डेढ़ कप पानी की मात्रा लें। जब आधे कप के बराबर रहे तो इसे जच्चा को पिलाएं। प्रसव आसानी से व शीघ्र हो जाएगा। जच्चा को कोई कठिनाई नहीं झेलनी होगी।
  • गर्भपात होने का कारण कोई भी हो। इसमें प्रसव से अधिक तकलीफ झेलनी पड़ती है। रक्त भी अधिक गिरता है। इससे गर्भवती महिला की हालत खराब हो जाती है। यदि गर्भ गिरने की आशंका हो जाए तो वह लेट जाए। पूरा आराम करे। कोई काम न संभाले। ऐसे में यदि कब्ज़ चल रहा हो तो गुलकन्द खाये। अथवा हरड़ का मुरब्बा। ऊपर गर्म दूध पी ले। वह भोजन में ताजे फल, जूस, हल्की पतली खिचड़ी ही ले। उसे पत्थर का जीव खरल करके आंवले के मुरब्बे के साथ खिलाएं। गर्भपात की संभावना खत्म हो जाएगी।

यह भी पढ़े – लीवर की देखभाल कैसे करें के 22 घरेलु नुस्खे जो आपके लीवर को रखे स्वस्थ

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment