गर्मी के मौसम में आहार कैसा हो, गर्मी में सबसे ज्यादा क्या खाना चाहिए

जानिए गर्मी के मौसम में आहार कैसा हो इसके बारे में हमें पता नहीं होता और यह जानना बहुत ही जरूरी है। गर्मी के मौसम में अपने आहार (Healthy Diet in Summer) पर इसलिए भी ध्यान देना जरूरी है क्योंकि इन दिनों प्यास अधिक लगती है। पेट जल्दी खराब होता है। शरीर में पानी तथा लवणों का सन्तुलन बिगड़ जाता है। इनकी कमी हो जाती है। अतः सावधानी जरूरी है।

गर्मी के मौसम में आहार कैसा हो

गर्मी के मौसम में आहार कैसा हो

यह भी पढ़े – डायबिटीज के घरेलू उपाय, शुगर में किन चीजों का परहेज करना चाहिए

गर्मी में हो ऐसा आहार

  • डीहाइड्रेशन भी न हो, पानी तथा लवणों की कमी न होने पाए इसलिए नींबू पानी, नारियल का पानी, विभिन्न प्रकार की ठंडाई या शर्बत लेने की सलाह दी जाती है। काला नमक भी नींबू पानी में मिलाने से अधिक लाभ होता है।
  • कोशिश करें तो गुलाब का रस, फालसे से बना शर्बत, अनार से निकाला जूस तथा चुने हुए अनार का पन्ना प्रयोग कर सकते हैं।
  • गर्मी कम करने तथा पाचन शक्ति बढ़ाने के लिए धनिया, प्याज, पुदीना आदि की चटनी ज़रूर बनानी व खानी चाहिए।
  • घीया, प्याज, लहसुन, करेला, कद्दू आदि का सेवन बढ़िया रहेगा।
  • इन दिनों कम से कम घी, तले पदार्थ सेवन करें।
  • कुछ लोग गर्मी में इमली इसलिए नहीं लेते कि यह खट्टी है या फिर सस्ती जो है। मगर इसको घोलकर जरूर प्रयोग करें।
  • गर्मी के भोजन में सलाद, खीरा, ककड़ी, तर, बैंगन, अरहर व मूंग की दाल खाएं। शरीर को शांति मिलेगी।
  • गर्मी से राहत पाने के लिए चना, गेहूं, जौ आदि जरूर खाएं।
  • गर्मी का मौसम है न। शरीर की व्याकुलता कम करने के लिए दही, दही की लस्सी, ठंडा दूध, दूध की लस्सी पान करें।
  • लू तथा गर्मी से बचाव के लिए खरबूज, तरबूज, तरबूज का रस, आलूबुखारा, अनार का रस, अनारदाना, टमाटर आदि का अत्यधिक प्रयोग करें। राहत पाएंगे।
  • इस मौसम में हरे पत्ते वाली साग-सब्ज़ियां जरूर खाएं।
  • पेय जलों का प्रयोग प्यास बुझाने के लिए अवश्य करें।
  • गर्मी के दिनों में भरपेट भोजन न खाने से अधिक सुखी होते हैं।
  • लू तथा गर्मी से बचने के लिए पानी पीकर ही घर से निकला करें।
  • फ्रिज आदि के पानी की बजाय घड़े का पानी पीने की आदत बनाएं।
  • इस मौसम में सत्तू तथा जी का शर्बत पीना बहुत उत्तम रहता है। बड़ी सफाई से तैयार किया गन्ने का रस पीना ठीक रहता है।
  • कांजी, जिसे काली गाजरों से बनाते हैं, मौसम का विशेष पेय रहता है।
  • ऐसी खान-पान की गलती न करें जिससे दस्त, पेचिश, हैज़ा हो सके।
  • शराब, धूम्रपान, भारी भोजन, घी-तेल युक्त आहार से पूरी तरह बचें।
  • इस ऋतु में विशेष रूप से अण्डा, मीट, मछली, कॉफी चाय आदि से बचें।
  • गर्मी के समय बाहर निकलते समय छाता, धूप की काली ऐनक आदि प्रयोग करें।
  • बाहर से आते ही ठंडा पानी नहीं पीएं। कुछ विश्राम के बाद पानी पी लें। गर्मी का मौसम आहार के लिए सावधानी मांगता है। सावधान रहें।

यह भी पढ़े – कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के उपाय, कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment