सर्दियों में भोजन (खानपान) का विशेष रूप से ध्यान देना इसलिए है जरूरी

सर्दियों में भोजन (खानपान) का विशेष रूप से ध्यान देना इसलिए है जरूरी, सर्दी (Healthy Diet in Winter) का मौसम शरीर को पुष्ट बनाने के लिए बढ़िया रहता है। इस मौसम में खुराक खाने को भी मन करता है। इसे पचा भी सकते हैं। इस ऋतु में शरीर जितना गर्म रखेंगे, उतनी ही चुस्ती आएगी। चलना-फिरना व अपने कार्यों को पूरा करना भी संभव हो पाएगा।

सर्दियों में भोजन (खानपान) का विशेष रूप से ध्यान देना इसलिए है जरूरी

सर्दियों में भोजन (खानपान) का विशेष रूप से ध्यान देना इसलिए है जरूरी

यह भी पढ़े – गर्मी के मौसम में आहार कैसा हो, गर्मी में सबसे ज्यादा क्या खाना चाहिए

सर्दियों में क्या खाना चाहिए

  • भोजन का चुनाव सही हो। सुपाच्य हो। शरीर में ऊर्जा बने। यह ऊर्जा चिरस्थायी हो सके। उष्णता की कमी न आए। तभी सुखी होंगे।
  • इस ऋतु में जठराग्नि प्रदीप्त रहती है। जो खाएंगे, अवश्य पचेगा ।
  • सर्दी से बचें। ठंडी तथा खुश्क हवाओं से बचें। गर्म कपड़े पहनें।
  • यह ऐसा मौसम है जिसमें उचित तथा पर्याप्त भोजन जरूरी है।
  • सर्दी की ऋतु अमीरों के लिए अति उत्तम जबकि निर्धन व साधन रहित लोगों के लिए दुष्कर होती है। अमीर जो चाहें खा, पहन सकते हैं। गरीब को तो पेट भरना व शरीर छिपा पाना भी कठिन होता है।
  • इन दिनों हमारे भोजन में लहसुन, प्याज, अदरक, घी, मूंग की दाल, दूध, दूध से बने पदार्थ आदि अवश्य हों। तभी सर्दी कटेगी।
  • गुड़, शक्कर, देसी घी, मेथी, गेहूं, जलेबी, इमरती आदि खाएं।
  • ड्राई फ्रूट, जिनमें गरी गोला, छुआरे, किशमिश, मुनक्का, बादाम, अंजीर, खुमानी, चिलगोज़े आदि, जहां तक संभव हो खा सकते हैं।
  • यह ऐसी ऋतु है जिसमें सरसों का साग, बथुए का साग, मक्की की रोटी, देशी घी डालकर खाने से शरीर में शक्ति आती है।
  • काजू, पिस्ता, अखरोट भी ताकत देकर उष्णता बनाए रखते हैं।
  • कुछ घरों में मेथी और धनिए के लड्डू इन दिनों बड़े चाव के साथ बनाए व खाए जाते हैं। सोंठ, धनिया भी प्रयोग में आता है। बेसन की टुकड़ियां, बेसन के लड्डू भी खाए जाते हैं।
  • प्राप्त हो सकें तो अंगूर, लौंग, चेरी, संतरा, सेब, माल्टा आदि खाने से शरीर ठीक तन्दुरुस्त बना रहता है।
  • जो मांसाहारी हों, उनके लिए सर्द ऋतु में अण्डा, मांस, मुर्गा, मछली आदि बहुत मददगार सिद्ध होते हैं।
  • जो मांसाहारी नहीं, वे मछली के तेल के बने कैप्सूल लेकर शरीर को उचित मात्रा में गर्मी प्रदान कर सकते हैं।
  • भुने हुए चने, भुनी हुई मूंगफली, भुना हुआ सोयाबीन तथा मक्की आदि का सेवन किसी भी हालत में ड्राई फ्रूट से कम नहीं रहता ।
  • सर्द ऋतु में, किसी भी हालत में ठंडे पेय, वायु तथा गैस पैदा करने वाले पदार्थ, उड़द, मोठ की दाल सेवन न करें। शरीर को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के लिए हर प्रकार के गलत खानपान से अवश्य बचें। इस मौसम में धूप सेंकना, मालिश करना, व्यायाम करना शरीर को विशेष ऊर्जा देते हैं। लाभ उठाएं।

यह भी पढ़े – बरसात के मौसम में क्या खाएं और क्या नहीं

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment