कब्ज दूर करने के रामबाण इलाज | Home Remedies For Constipation in Hindi

कब्ज दूर करने के रामबाण इलाज मिनटों में छूमंतर होगी कब्ज की समस्या देखें पूरी जानकारी। कब्ज एक अकेला रोग नहीं। यह स्वयं तो रोग है ही, अनेक अन्य रोगों का जन्मदाता है तथा आदमी को रोगी बनाना ही इसका मुख्य उद्देश्य रहता है। कब्ज कभी कब्ज तक सीमित नहीं रहता, बल्कि विकार पर विकार पैदा किए जाता है। अच्छा हो कि किसी को कब्ज हो ही नहीं।

कब्ज दूर करने के रामबाण इलाज

कब्ज दूर करने के रामबाण इलाज

यह भी पढ़े – आंखों के रोग के घरेलू उपाय | Home Remedies For Eye Disease in Hindi

कब्ज दूर करने के रामबाण इलाज

  • कब्ज हो ही जाए तो इसे पूरी तरह हटाने के लिए बड़ी हरड़ का फायदा उठाएं। बड़ी हरड़, जिसमें से गुठली पहले ही निकाली जा चुकी हो, इसका बना मुरब्बा दो नग रोगी को खाने को दें। इसके तुरन्त बाद वह एक गिलास गर्म दूध पी ले। इससे उसे दस्त होंगे अतः कब्ज नहीं रहेगा।
  • कब्ज का पक्का तथा शर्तिया करने के लिए जंगी हरड़, अमलतास का गूदा, कुटकी, पीपरामूल, नागरमोथा, सबकी एक समान मात्रा कोई आधा-आधा तोला लें। इन सब चीजों को एक साथ एक बड़े गिलास पानी में उबालें। खूब उबलने दें। जब पानी मात्र एक कप रह जाए तो उतारें। छानें। रोगी को पिलाएं। कुछ दिनों तक इसे लेते रहें।
  • कब्ज से छूटने के लिए तथा अपने स्वास्थ्य की वृद्धि के लिए बारह दाने मुनक्का लें। इनका बीज निकाल दें। अब इन्हें एक गिलास दूध में उबालें। रात के समय इसे बनाएं और सोने से पूर्व पी लें। पेट साफ़ कर देगा। सामान्य शौच आएगा।
  • त्रिफला एक चम्मच खाएं। ऊपर से एक गिलास गर्म दूध पी लें दो-चार बार इसे जारी रखें। बहुत लाभ मिलेगा।
  • कब्ज ऐसा हो कि ठीक होने का नाम न ले। रोगी दुखी हो चुका हो तो एक गिलास संतरे का रस रोगी प्रातः खाली पेट पी ले। संतरे के रस को प्योर ही पीना है। इसमें मीठा, नमक या कुछ भी नहीं मिलाना। ग्यारह दिन लगातार लेने से काफी आराम पा लेंगे।
  • ईसबगोल से एक और भी उपचार है कब्ज का। एक तोला ईसबगोल की भूसी लें। एक बड़ी कटोरी दही की लें। इसमें यह भूसी डालें। यदि रोगी इस खुराक को सुबह, शाम दोनों समय खाता रहे तो उसका कब्ज का रोग चला जाएगा।
  • कब्ज की तकलीफ से तथा इसके द्वारा पैदा होने वाले अन्य रोगों से बचने के लिए पीली हरड़ को भिगोएं। रात भर भीगी रहने दें। सुबह इस हरड़ को पानी में मथें। छानकर, थोड़ा स्वादानुसार नमक मिलाकर रोगी को पीने को दें। यही हरड़ अगली रात फिर भिगो दें। पांच दिनों तक यह हरड़ चलेगी। आवश्यकता हो तो इसे कुछ दिन और पीते रहें। नामुराद-सा कब्ज का रोग, चाहे कितना पुराना भी हो, ठीक हो जाएगा।

यह भी पढ़े – मुंह के छालों को ठीक करने का देसी इलाज | Home Remedies For Mouth Ulcers

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment