जामुन के फायदे? जामुन डायबिटीज के रोगियों के लिए है रामबाण उपाय?

जामुन के फायदे

जामुन के फायदे (Jamun Ke Fayde) क्या है, जामुन को औषधियों का फल भी कहा जाता है। जामुन की पत्तियां , तना, झाल और बीज भी काफी गुणकारी है और मनुष्य के कई बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है। आज हम जानेंगे जामुन के फायदे इन हिंदी में

जामुन के फायदे (Jamun Ke Fayde)

जामुन के फायदे
जामुन के फायदे (Jamun Ke Fayde)

जामुन के फायदे (Jamun Ke Fayde)

जामुन एक तरह के बेरीज की प्रजाति का फल है इसलिए यह खट्टा मीठा होता है।

जामुन में पाए जाने वाले तत्व:-

  • आयरन
  • विटामिन सी
  • ग्लूकोस
  • फ्रुक्टोज
  • विटामिन ए राइबोफ्लेविन
  • निकोटिन एसिड
  • फोलिक एसिड
  • सोडियम
  • पोटैशियम
  • कैल्शियम
  • फास्फोरस
  • जिंक

जामुन के शाखाओं में और छाल में पाए जाने वाले तत्व:-

  • टैनिन
  • गैलिक एसिड
  • रेसिन
  • फाइटोस्टीराल

जामुन के बीज में पाया जाने वाला तत्व:-

  • ग्लाइकोसाइड
  • जंबोलिन
  • गैलिक एसिड

जामुन गर्मियों के मौसम में बाजार में आने लगता है इसके पीछे यह कारण भी है की जब अधिक गर्मी में किसी को लू लग जाती है तो उसे जामुन की मदद से ठीक किया जाता है। आइए जानते हैं की जामुन से और क्या क्या फायदे होते हैं।

जामुन खाने के फायदे:-

पाचन क्रिया को मजबूत करता है-

जामुन के सेवन से व्यक्ति के पेट से जुड़ी समस्या का समाधान मिलता है यह पाचन क्रिया को मजबूत करता है जिससे कब्ज या गैस जैसी समस्या से छुटकारा मिलता है।

डायबिटीज को कम करता है-

जामुन डायबिटीज के रोगियों के लिए एक रामबाण उपाय माना जाता है जामुन के बीज को सुखाकर पीसकर उसके पाउडर के सेवन से डायबिटीज कम हो जाता है।

पथरी के समस्या को दूर करता है-

जामुन का सेवन करने से पथरी में फायदा मिलता है अगर किसी को पथरी की समस्या हो रही है तो जामुन के बीज को सुखाकर उसका पाउडर बनाकर दही के साथ खाने से लाभ मिलता है।

त्वचा को निखारने के लिए

जामुन को त्वचा के लिए बहुत ही लाभकारी माना गया है जिन व्यक्ति को त्वचा पर सफेद दाग हो जाते हैं उनके लिए जामुन काफी फायदेमंद होगा। जामुन के गुर्दे का पेस्ट बनाकर उसे सफेद दाग पर लगाएं ऐसा करने से आप के दाग हल्के पढ़ने लगेंगे और कुछ समय बाद हट भी जाएंगे।

पायरिया (मसूड़े)के लिए है फायदेमंद

अगर किसी व्यक्ति को पायरिया की शिकायत है तो जामुन की गुठली को पीसकर उसमें थोड़ा नमक मिला लें ।फिर इस मिश्रण से रोज अपने दांतों और मसूड़ों पर मले ।ऐसा रोजाना करने से आपके मसूड़ों से खून निकलना बंद हो जाएगा।

आपको पायरिया की शिकायत से भी छुटकारा मिल जाएगा। जामुन के पत्तों की राख से मंजन करने से भी इसमें लाभ मिलता है। अगर आपके मसूड़ों में सूजन आ जाती है, या फिर बहुत कमजोर है, तो जामुन के मुलायम पत्तों को पानी में उबालकर कुल्ला करने से फायदा होता है और साथ ही मुंह से दुर्गंध भी नहीं आती।

एनीमिया के लिए है फायदेमंद

जामुन में कैल्शियम पोटेशियम आयरन और विटामिन ए जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर के प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है साथ ही अगर किसी के शरीर में खून की कमी आ जाती है तो जा जामुन का रोजाना सेवन करने से खून का असर बढ़ने लगता है।

लिवर के लिए है फायदेमंद

अगर आपका लीवर कमजोर है तो रोजाना सुबह-शाम जामुन का सेवन करने से या जामुन का रस पीने से यह समस्या लगभग खत्म हो जाती है।

अतिसार (Diarrhea) की समस्या को दूर करता है

जामुन के पेड़ की छाल को पानी में उबालकर पीने से अतिसार की समस्या में राहत मिलती है। अगर गर्भवती महिला को अतिसार की समस्या है तो उनके लिए भी यह बहुत फायदेमंद होता है।

गठिया की समस्या में आराम मिलता है

जामुन के पेड़ की छाल को अच्छी तरह से उबालकर फिर उस छाल को पीसकर उसका लेप घुटनों पर लगाने से गठिया की समस्या में आराम मिलता है।

घाव को सही करता है

कई बार हमारे हाथ और पैरों में कई कारणों से छाले पड़ जाते हैं ऐसी स्थिति में अगर आप जामुन की गुठली को पीसकर उसका लेप बनाकर छालों पर लगाएंगे तो आपको दर्द से आराम मिल जाएगा और अगर आपको कहीं घाव हो गया है तो उसमें भी यह जामुन का लेप लगाने से फायदा मिल सकता है।

रक्तपित्त की समस्या को दूर करता है

कान नाक या फिर किसी अन्य अंग से खून बहने के समस्या को रक्तपित्त कहा जाता है ऐसी परिस्थिति में जामुन का सेवन फायदेमंद माना गया है। जामुन के 5 से 10 पत्ते के रस को दिन में तीन बार सेवन करने से लाभ मिलता है।

सिफलिस रोग में है फायदेमंद

जामुन के पत्तों को तेल में पकाकर सिफलिस से प्रभावित जगह पर लगाने से आराम मिलता है।

बवासीर के दर्द मैं है फायदेमंद

अगर आपको बवासीर की समस्या है तो जामुन के कोमल पत्ते का लगभग 20 ML रस निकालने फिर इसमें थोड़ी सी शक्कर मिला लें इस मिश्रण को दिन में 3 बार पीने से बवासीर मैं आने वाला खून बंद हो जाएगा।

इसके अलावा अगर जामुन के 10 ग्राम कोमल पत्तों को 250 ML गाय के दूध में मिलाकर घुटने ऐसा लगातार 7 दिन तक सुबह दोपहर शाम को पीने से बवासीर में बहने वाला खून बंद हो जाएगा।

Q1 : जामुन की तासीर कैसी होती है?

Ans : जामुन की तासीर ठंडी होती है।

Q2 : जामुन का सिरका कब पीना चाहिए?

Ans : खांसी होने पर जामुन का सिरका पीना चाहिए।

Q3 : जामुन खाने के बाद क्या नहीं खाना चाहिए?

Ans : जामुन खाने के तुरंत बाद अच्छा आप नहीं खाना चाहिए।

Q4 : क्या जामुन खाने के बाद दूध का सेवन कर सकते हैं?

Ans : जामुन खाने के बाद कभी भी दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

Q5 : जामुन खाने का सही तरीका क्या है?

Ans : जामुन में सेंधा नमक या काला नमक मिलाकर खाना चाहिए।

यह भी पढ़े –