कान के रोगों से है परेशान तो अपनाये ये कुछ सरल उपचार

कान के रोगों से है परेशान तो अपनाये ये कुछ सरल उपचार मिलेगा अचूक फायदा। कान की तकलीफ कैसी भी हो, हमारे पास अनेक उपचार हैं, जिनमें से अपनी पसंद का उपचार चुनकर लाभ उठा सकते हैं। कान हमारे शरीर का एक मुख्य अंग है जिससे हमें सुनाई देता है यदि हमारे कान में थोड़ी सी भी परेशानी होती है तो पूरे शरीर को तकलीफ पहुंचते हैं इसलिए हमें अपने कान का ख्याल रखना चाहिए।

कान के रोगों से है परेशान तो अपनाये ये कुछ सरल उपचार

कान के रोगों से है परेशान तो अपनाये ये कुछ सरल उपचार

यह भी पढ़े – नजला-जुकाम से है परेशान तो अपनाये ये घरेलू उपचार मिलेगा फायदा

कान के घरेलू उपचार

  • तिल का तेल कान के कीड़ों को मारने में सक्षम है। कान में तिल के तेल की तीन बूंदें डालें। इसे पांच दिनों तक प्रतिदिन अपनाएं। पूरा लाभ मिलेगा।
  • कान में खुजली रहती हो तो सरसों का तेल लें। उसमें सिरका मिलाएं। इसकी तीन बूंद मात्र कान में डालें। केवल तीन दिनों का उपचार काफी है।
  • कान में मैल हो जाए। यदि तिनका, सलाई आदि डालकर मैल निकालना चाहें तो, अव्वल तो मैल पूरी तरह निकलेगा नहीं, दूसरे कान का पर्दा फटने का डर भी रहता है। अतः कान के साथ खिलवाड़ मत करें। नीम के पत्तों का बफारा देंगे तो कान का मैल फूल जाएगा। स्वतः बाहर आने लगेगा।
  • यदि कान में पीप पड़ जाए, कान में आवाजें सुनाई दें-सूं-सूं लगी रहे, बेहद दर्द हो, या इन तीनों में से कोई एक ही क्यों न हो, पिसा हुआ सेंधा नमक बकरी के दूध में थोड़ा-सा मिलाकर मामूली-सा डालें, इसी से बहुत आराम मिल जाएगा। सारे रोग शांत होंगे।
  • कान में कीड़े हों, यदि अन्य उपचार न मिले तो तारपीन का तेल मात्र तीन बूंदें डालें। कीड़े मरकर स्वयं बाहर निकल जाएंगे।
  • कान के कीड़े मारने और निकालने का एक और इलाज! एलुआ को पानी में पीसें। अब कान में डालें। आराम पाएंगे।
  • एक और उपचार! सुहागा की खील की पिसी हुई चुटकी भर सिरक में डालें। इसकी केवल तीन बूँदें कान में डालें। इसको तीन दिनों तक दोहराएं। कीड़े मर जाएंगे।
  • यदि कान में कुछ न डालना हो तो आप गूगल की धूनी देकर कीड़े मार सकते हैं।
  • कान की खुजली से आराम पाने के लिए नींबू के रस की दो-तीन बूँदें ग्लिसरीन में मिलाएं। इसमें रूई भिगोकर किसी तिनके की मदद से कान में हल्के-हल्के घुमाएं। खुजली नहीं रहेगी।
  • कान के कीड़ों को मारने के लिए घर में पाऊडर बनाएं। काली मिर्च, छोटी पीपल तथा सोंठ, तीनों की बराबर मात्रा लेकर पीसें। पाऊडर तैयार करें। हल्की चुटकी कान में डालकर आराम पाएं।
  • यदि आप निर्गुण्डी के ताजे पत्ते प्राप्त कर सकें तो इनका रस निकालें। इसकी तीन बूंद कान में डालें। कीड़े नष्ट हो जाएंगे।
  • कान की दर्द, खुजली, साएं-साएं खत्म करने के लिए चमेली के तेल में एलुआ पीसकर, भली प्रकार मिला लें। अब इसे मामूली सा गर्म करें। तीन बूंद कान में डालें। आराम पाएंगे।

इस प्रकार हम जान गए हैं कि कान के विभिन्न रोग हम अपने आप ठीक कर सकते हैं। इसके लिए सफल घरेलू उपचार जो हैं।

यह भी पढ़े – खांसी और कफ से है परेशान तो अपनाये ये घरेलू उपचार मिलेगा अचूक फायदा

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment