खांसी पर नियंत्रण के उपाय, खांसी पर नियंत्रण करने के लिए अपनाये ये तरीके

खांसी पर नियंत्रण के उपाय, खांसी पर नियंत्रण करने के लिए अपनाये ये तरीके, खांसी बहुत से रोगों की जड़ है। खांसी को फिर भी बरदाश्त कर सकते हैं, मगर जिन रोगों को यह जन्म देती है वे काबिले बरदाश्त नहीं रहते जैसे दमा, ब्रोंकाइटिस, क्षय रोग, फेफड़ों का काम न करना, चलने-फिरने, बैठने-उठने में असमर्थता आ जाना आदि। अच्छा हो यदि हम अपने भोज्य पदार्थों को सोचकर चुनें ताकि यह रोग नियन्त्रण में रहते हुए धीरे-धीरे शरीर से निकल जाएं।

खांसी पर नियंत्रण के उपाय

खांसी पर नियंत्रण के उपाय

यह भी पढ़े – ब्रोंकाइटिस की रोकथाम के संभव उपाय, ब्रोंकाइटिस की रोकथाम है संभव

खांसी पर नियंत्रण के उपाय

  • हल्के गरम पानी में नमक डालकर प्रातः तथा दिन में भी गरारे जरूर करें।
  • दिन में खाना खाने और गरारों में डेढ़-दो घंटों का अंतर बनाएं।
  • भोजन का चुनाव ऋतु तथा अपनी प्रकृति के अनुरूप हो। ऐसा न हो कि गलत भोज्य पदार्थ लेकर गले में सूजन, गले में दर्द, बलगम कर बैठें।
  • अपने आहार-व्यवहार से तम्बाकू पदार्थ, धूम्रपान, शराब, तेज मिर्च-मसाले, अधिक तले पदार्थ आदि निकाल फेंकें।
  • अभी ठंडा, तुरन्त गरम फिर ठंडा, यह सब ठीक नहीं। रोग बढ़ाता है।
  • यदि आप जान गए हैं कि किसी वातावरण या पदार्थ से एलर्जी है, तो उसे विष समान मानकर अपने से अलग कर डालें।
  • शहद में अदरक का रस डालकर चाटने से लाभ होगा।
  • चाय की भांति अजवायन को उबालें। छानें। नींबू तथा चीनी मिलाकर रोगी को दिन में दो बार पीने को दें। बहुत आराम मिलेगा।
  • थोड़ा शहद लें। इसमें खील किया सुहागा-पाऊडर डालें। दो चुटकी मात्र। इसे शहद के साथ एकसार कर मुंह के अन्दर हल्का लेप करें।
  • गरारों के लिए गर्म पानी में फूली फटकरी डालें। इससे आराम मिलेगा।
  • भोजन के साथ पानी पीने की मनाही रहती है। फिर भी यदि पीना ही है तो गुनगुना पानी पीने से घी, तेल, मसालों से गला साफ होगा।
  • शहद की तीन चम्मच कटोरी में डालें। प्याज़ को कद्दूकस करके इसमें मिलाएं। रात भर रखें। अगले दिन, दिन में तीन बार इसे चाट-चाटकर खाएं। अथवा हर बार एक तिहाई हिस्सा लेकर, उसमें गुनगुना पानी डालें। घोलें। पी जाएं। मगर आहिस्ता-आहिस्ता ।
  • खांसी है। सोने भी नहीं देती। दो कप दूध लें। इसमें अन्दाज से दाल चीनी डालें। उबालें। छानें। चाय की तरह रात को सोने से पूर्व पी लें। यदि इसमें शहद डालकर पीते हैं तो अधिक आराम पाएंगे।
  • प्रातः खाली पेट, आधा चम्मच लहसुन का रस पीने से लाभ होगा।
  • अंगूर का रस एक-एक कप, दिन में दो बार लेना आरम्भ करें। इससे रोगों से लड़ने की शक्ति तो प्राप्त होगी ही कफ-खांसी भी शांत होगी।

सावधानी

यदि खांसी का रोगी डायबिटीज का मरीज भी हो तो उसको अंगूर का रस पीने की मनाही है। अन्य उपाय चुन लें। इस प्रकार हम अपने भोज्य पदार्थों की मदद से, तथा खान-पान में सुपाच्य हल्के दाल-सब्जी चपाती लेकर व भरपेट न खाकर खांसी को तथा इससे होने वाले रोगों को शांत रख सकते हैं।

यह भी पढ़े – जुकाम छींक और नाक बहने का सरल इलाज बस अपनाये ये घरेलू उपाय

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment