महमूद गजनवी का भारत पर आक्रमण? भारत पर आक्रमण करने का कारण क्या था?

महमूद गजनवी का भारत पर आक्रमण: गजनी का शासक महमूद गजनी या गजनवी राज्य का स्वामी था। ये राज्य पैगम्बर साहब के उत्तराधिकारियों या खलीफा के साम्राज्य से स्वतंत्र हो गए थे। इनके शासक सुल्तान कहलाए इसलिए इन राज्यों को सल्तनत (सुल्तनत) कहा गया।

जाने इस पोस्ट में क्या है

महमूद गजनवी का भारत पर आक्रमण

महमूद-गजनवी-का-भारत-पर-आक्रमण
Mahmud Ghaznavi Ka Bharat Per Aakraman

तुर्क लोगों द्वारा पहला बड़ा हमला तब हुआ जब गजनी राज्य (अफगानिस्तान) के महमूद गजनवी नाम के तुर्क राजा ने भारत पर हमला किया, पर वह भारत में राज्य नहीं करना चाहता था। उसकी नजरे ईरान अफगानिस्तान व खुरासान के क्षेत्र में ही दूसरे के राजाओं को हराकर अपने राज्य गजनी को बढ़ाने में लगी थी।

जब महमूद गजनवी भारत में राज्य नहीं करना चाहता था तो फिर वह भारत क्यों आया ? इसलिए कि वह अपनी सेना बनाने के लिए धन जुटाने की कोशिश कर रहा था। इस कोशिश में उसने सन् 1000 से सन् 1025 तक 17 बार विभिन्न राजपूत राज्यों पर आक्रमण किया।

यह भी पढ़े – शेरशाह सूरी का शासन काल? शेरशाह सूरी का मकबरा किसने बनवाया था?

उसने कई राजाओं को हराकर उनके धन पर कब्जा किया। उन मंदिरों और बौद्ध मठों को तोड़ा व लूटा, जिनमें बहुत धन दौलत इकट्ठी हुई थी। इसमें 1025 ई० में सोमनाथ मन्दिर का आक्रमण सबसे प्रसिद्ध है।

सोमनाथ मन्दिर गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल में स्थित है। ये बारह ज्योतिर्लिंगो में से एक है। इस मन्दिर को कई बार आक्रमणकारियों ने नुकसान पहुँचाया। आधुनिक मन्दिर का निर्माण सरदार वल्लभ भाई पटेल के प्रयास से हुआ। भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेन्द्र प्रसाद के हाथों 11 मई 1951 को यहाँ ज्योतिर्लिंग की स्थापना की गई।

यह भी पढ़े –

Subscribe with Google News:

Leave a Comment