मानसिक स्वस्थ की दवा है आत्मविश्वास देखे पूरी जानकारी

मानसिक स्वस्थ की दवा है आत्मविश्वास देखे पूरी जानकारी, जिस व्यक्ति में आत्मविश्वास की कमी नहीं, उसकी मानसिक स्वस्थता सदा बनी रहेगी। विपरीत हालात होते हुए भी वह सुखी रह पाएगा। आज के इस युग में चिन्ता व तनाव से बचकर चलना बहुत कठिन है। यही मानसिक स्वस्थता के लिए घातक भी हैं।

मानसिक स्वस्थ की दवा है आत्मविश्वास देखे पूरी जानकारी

मानसिक स्वस्थ की दवा है आत्मविश्वास

यह भी पढ़े – स्वस्थ जीवन के लिए व्यायाम और स्वच्छता क्यों है जरूरी

  • शरीर और मन का घनिष्ठ सम्बन्ध है। जो मन से प्रसन्न होगा, उसका शरीर भी स्वस्थ बना रहेगा।
  • स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन वास करता है।
  • अतः शारीरिक स्वस्थता तथा मानसिक स्वस्थता एक-दूसरे पर निर्भर रहते हैं। दोनों एक-दूसरे के पूरक भी हैं।
  • यदि कोई व्यक्ति मानसिक रूप से अस्वस्थ रहेगा तो उसके शरीर का स्वस्थ रहना असम्भव ही है। या यों कहें कि जब तक हम मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं हो पाते, शारीरिक स्वस्थता की कल्पना करना भी कठिन है। अतः मानसिक स्वस्थता पर अधिक ध्यान दें।

दिमाग स्वस्थ बनाने के कुछ मूल-मन्त्र

  1. व्यक्ति जिस भी हाल में हो, वह प्रसन्न रहने का प्रयत्न करे।
  2. जो व्यक्ति अपने वर्तमान से सन्तुष्ट है, वह मानसिक तौर पर भी सन्तुष्ट व स्वस्थ बना रह सकता है। इस स्थिति को पाएं।
  3. कर्त्तव्य से कभी विमुख न हों। कर्त्तव्य पालन करने से मन प्रसन्न रहेगा।
  4. जो भी कार्य हाथ में है, पूरी ज़िम्मेवारी से करें। आपकी कर्त्तव्यनिष्ठा कभी खाली नहीं जाएगी। प्रकृति अवश्य फलीभूत करेगी।
  5. स्वास्थ्य-सम्बन्धी सभी नियमों को आवश्यक मान, इनका पालन करें।
  6. जो व्यक्ति मानसिक तौर पर असन्तुष्ट रहेगा, उसका स्वास्थ्य भी बिगड़ जाएगा। अतः सन्तुष्ट रहने की हर कोशिश करें ताकि शरीर भी स्वस्थ हो सके
  7. जो लोग खूब खुलकर हंसते हैं उनके चेहरे पर मायूसी नहीं, खुशी तथा लाली झलकती है। हंसने से सभी रोग शांत होते हैं। मन तथा शरीर, दोनों खिले रहते हैं।
  8. हमारा जीवन बोझ नहीं, ईश्वर का दिया वरदान है। इसे वरदान समझते हुए ही आशापूर्ण ढंग से व्यतीत करना चाहिए। निराशा को पास न फटकने दें। जीवन में बहार आ जाएगी।
  9. दाम्पत्य जीवन में रस भरने का प्रयत्न करें। पूरे परिवार के साथ तारतम्य बनाकर चलें। मन भी प्रसन्न रहेगा, भी खिला रहेगा। मानसिक स्वस्थता बनी रहेगी।
  10. आत्मविश्वास हमारे स्वास्थ्य का मज़बूत स्तम्भ है। इसे बनाए रखें। डगमगा जाएंगे तो न मन शांत रहेगा न ही मानसिक स्वास्थ्य। फिर शरीर भी आरोग्य न रह पाएगा। अतः पूर्ण विश्वास के साथ, आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ें। उज्ज्वल भविष्य आपकी प्रतीक्षा में है।

यह भी पढ़े – अधिक दवा के सेवन से स्वस्थ पर होने वाले नुकसान के बारे में जाने

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment