मिर्गी रोग से है परेशान ये है मिर्गी रोग भगाने के उपाय

मिर्गी रोग से है परेशान ये है मिर्गी रोग भगाने के उपाय मिलेगा अचूक फायदा। मिर्गी रोग को शांत करने तथा पूरी तरह ठीक करने के लिए अंग्रेजी दवाओं के पीछे मत भागें। ये दवाएं वक्ती तौर पर रोग के लक्षण दबा देंगी। मगर घरेलू प्राकृतिक उपचार करने से एक तो रोगी को कोई हानि नहीं होती, दूसरे इलाज भी स्थायी हो पाता है। आइए! ऐसे कुछ उपचार जानें।

मिर्गी रोग से है परेशान ये है मिर्गी रोग भगाने के उपाय

मिर्गी रोग से है परेशान ये है मिर्गी रोग भगाने के उपाय

यह भी पढ़े – कान के रोगों से है परेशान तो अपनाये ये कुछ सरल उपचार

मिर्गी रोग में क्या ना खाये

रोगी प्राकृतिक उपचार पर निर्भर रहते हुए निम्नलिखित पदार्थों का सेवन न करे –

  1. किसी भी प्रकार का मांस
  2. तले पदार्थ
  3. कोई भी नशा
  4. कोई भी शराब
  5. कॉफी
  6. चाय
  7. भारी भोजन
  8. मिर्च-मसाले

मिर्गी रोग भगाने के उपाय

  • पिसी मुलहठी आधा तोला लें। इसे पौन तोला पेठे के रस में मिलाएं। रोगी को चटा दें। तीन ही दिनों में आराम मिल जाएगा।
  • पिसी राई लें मिर्गी का दौरा पड़ने पर इसे रोगी को सुंघा दें। उसे तुरन्त होश आ जाएगा।
  • मिर्गी रोग का स्थायी उपचार करने के लिए एक तोला लहसुन की कलियां तथा तीन तोले काले तिल लें। रोगी इन्हें मिलाकर खा जाए। प्रातः प्रतिदिन, तीन सप्ताह तक खाएं। पूरा फायदा होगा।
  • रीठों को सुखाकर, कूट-पीसकर छान लें। इस पाऊडर की कुछ दिनों तक नसवार लें। रोग खत्म हो जाएगा।
  • यदि रोगी को मिर्गी का दौरा पड़ गया हो और वह बेहोश होकर पड़ा हो तो उसे तुलसी के पत्तों को कूटकर सुंघा दें। वह एकदम होश में आ जाएगा। यदि हरे पत्ते न हों तो सूखे पत्तों से भी काम चल सकता है।
  • यदि मिर्गी का दौरा पड़ा हो तो प्याज़ का रस निकालें। इसे रोगी को सुंधा दें। प्याज़ सफेद हो तो बेहतर।
  • मिर्गी के रोगी के लिए अंगूर का सेवन बहुत लाभकर होता है। वह पाव भर अंगूर सुबह, इतने ही शाम को खाया करे। यदि अंगूर का रस उपलब्ध हो तो एक समय एक गिलास रस तथा एक समय अंगूर खाया करे।
  • ब्राह्मी बूटी का रस, एक छोटा चम्मच प्रातः, इतना ही शाम को पिलाएं। एक सप्ताह में रोग पूरी तरह शांत हो जाएगा।
  • रोगी धार्मिक तथा उत्तम साहित्य पढ़ा करे। शांत रहने का सदा प्रयत्न करे। क्रोध से बचे। आराम पाता जाएगा।
  • भय, चिन्ता, क्रोध, आवेश, उत्तेजना, शोक, तनाव आदि से यदि रोगी बच पाए तो यह रोग स्वतः शांत होता जाएगा।
  • रोगी का भोजन सुपाच्य तथा सादा हो तो अधिक जल्दी लाभ पा सकेगा। इन उपायों में से जो अपना पाएं, वही अच्छे।

यह भी पढ़े – नजला-जुकाम से है परेशान तो अपनाये ये घरेलू उपचार मिलेगा फायदा

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment