मोटापा दूर करने के उपाय क्या है? मोटापा दूर करने की रेसिपी?

मोटापा दूर करने के उपाय

मोटापा दूर करने के उपाय (Motapa Dur Karne Ke Upay), अस्वस्थ जीवन चर्या के कारण कई बीमारियां उत्पन्न हो रही है जिनमें से सबसे ज्यादा बीमारी मोटापा है जिससे लोग परेशान हैं। मोटापे से छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपाय, ऐसे कई लोग हैं जो मोटापा का शिकार हो गए हैं जिसका मुख्य कारण अस्वस्थ खानपान और रहन-सहन है।

मोटापा दूर करने के उपाय (Motapa Dur Karne Ke Upay)

मोटापा दूर करने के उपाय
मोटापा दूर करने के उपाय (Motapa Dur Karne Ke Upay)

मोटापा ऐसी बीमारी है जो कई तरह की बीमारियों को निमंत्रण देता है इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि हम अपना मोटापा कम करें। कई लोग मोटापा कम करने के लिए भोजन करना बंद कर देते हैं।

जो कि शरीर में कमजोरी ला देता है कई लोगों को वजन घटाने का उचित तरीका भी नहीं मालूम जिसके कारण ने कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है हम आपको वजन घटाने के घरेलू उपाय बताएंगे जो आपके शरीर के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा।

विषय सूची

मोटापा ( Obesity) क्या होता है?

जब भी किसी मनुष्य का वजन उसके सामान्य वजन से अधिक हो जाता है तो उसे मोटापा (Obesity) कहते हैं। वजन बढ़ने का मुख्य कारण यह है कि आप रोजाना जितनी कैलोरीज का सेवन भोजन के रूप में करते हैं मगर आपका शरीर उतनी कैलोरीज रोजाना खर्च नहीं कर पाता जिसके कारण शरीर में कैलोरीज फैट के रूप में जमा होने लगती है जो शरीर के वजन को बढ़ाने का मुख्य कारण होता है।

मोटापे का मुख्य कारण

जब भोजन द्वारा शरीर में जरूरत से ज्यादा कैलोरी प्रवेश करती है लेकिन इतनी खर्च नहीं हो पाती जिसके कारण अत्यधिक चर्बी शरीर में ही जमा हो जाती है जो वजन बढ़ाने का काम करती है। यह चर्बी जितनी जल्दी शरीर के वजन को बढ़ाती है उतने ही धीरे-धीरे यह वजन घटाने में समय लेती है। वजन बढ़ने के दो मुख्य कारण हैं:-

  1. अन हेल्थी डाइट यानी असंतुलित आहार
  2. शारीरिक व्यायाम की कमी

मोटापा बढ़ने का लक्षण

किसी भी व्यक्ति का वजन कितना होना चाहिए यह उसकी बीएमआई पर निर्भर करता है। बीएमआई का मतलब है बॉडी मास इंडेक्स (body mass index)बीएमआई शरीर के कद और वजन पर निर्भर करता है।

हर व्यक्ति बीएमआई के जरिए अपना वजन स्वयं जांच कर सकता है। इस फार्मूला के जरिए हर व्यक्ति अपना बीएमआई नाप सकता है:-

वजन (कि. ग्रा. में) / कद (मीटर में)2

  • अगर किसी व्यक्ति का बीएमआई 18 .5 से कम होता है तो वह अंडरवेट माना जाएगा।
  • अगर किसी व्यक्ति का बीएमआई 18 .5 से 24.9 के बीच होता है तो उसका वजन सामान्य माना जाता है।
  • अगर किसी व्यक्ति कब बीएमआई 25 से 29 .9 होता है तो वह ओवरवेट माना जाता है।
  • अगर किसी व्यक्ति का बीएमआई 30 से अधिक हो तो उसे मोटापा कहा जाता है।
  • बीएमआई आयु तथा लिंग पर बिल्कुल भी निर्भर नहीं करता।
  • महिला के गर्भ अवस्था के समय बीएमआई की सीमा लागू नहीं होती।

वजन घटाने के घरेलू उपाय

वजन घटाने के कई तरीके होते हैं लेकिन इनमें समय भी लगता है जितना समय वजन बढ़ने में लगता है उससे कई गुना ज्यादा समय वजन घटाने में लगता है इसलिए वजन घटाने की कभी भी जल्दबाजी ना करें। अगर आप ऐसा करेंगे तो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है। नीचे दिए घरेलू नुस्खों को रोजाना अपना कर आप धीरे-धीरे अपना वजन आसानी से हटा सकते हैं।

अदरक और शहद का प्रयोग

मोटापा दूर करने के उपाय
मोटापा दूर करने के उपाय (Motapa Dur Karne Ke Upay)

अदरक ज्यादा भूख लगने की समस्या को कम करता है और पाचन को भी तंदुरुस्त बनाता है। रोजाना सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले अगर आप अदरक के 30 मि.ली. रस में दो चम्मच शहद मिलाकर पिएंगे तो इससे आपकी चर्बी धीरे-धीरे गले लगेगी और आपको भूख भी कम लगेगी साथ ही यह आपके पाचन क्रिया को भी तंदुरुस्त बनाता है।

दालचीनी के सेवन से

मोटापा दूर करने के उपाय

दालचीनी में एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज पाई जाती है जो हानिकारक बैक्टीरिया से छुटकारा दिलाता है रोजाना सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले 3 से 6 ग्राम दालचीनी पाउडर को 200 मि .ली.पानी में उबाल लें और गुनगुना होने पर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर पी ले।

सेब के सिरके का सेवन

मोटापा दूर करने के उपाय

सेब के सिरके में पेक्टिन फाइबर (Pectin Fiber) मौजूद होता है अगर आप रोजाना एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब के सिरके के साथ एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीते हैं तो यह आपके शरीर में जमे हुए पेट को घटाता है और वजन कम करने में मदद करता है इसमें मौजूद पेक्टिन फाइबर के कारण आपका पेट लंबे समय तक भरा होने का एहसास दिलाता है।

नींबू शहद और काली मिर्चका सेवन

मोटापा दूर करने के उपाय

काली मिर्च में पाइप रेट तत्व होता है जो शरीर में नई वसा कोशिकाओं को जमने से रोकता है और नींबू में एस्कोरबिक एसिड होता है जो शरीर में मौजूद फैट को जलाता है और बाहर निकालने में मदद करता है।

अगर आप रोजाना एक गिलास पानी में आधा नींबू करस एक चम्मच शहद और चुटकी भर काली मिर्च पाउडर मिलाकर सेवन करते हैं तो आपके शरीर का फैट गर्ल ने लगता है और वजन कम करने में आसानी होती है।

पत्ता गोभी के सेवन से

मोटापा दूर करने के उपाय

अगर आप अपने रोजाना आहार में सलाद के रूप में पत्ता गोभी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो यह आपके शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट को वसा में परिवर्तन नहीं होने देगा। क्योंकि पत्ता गोभी में टारटरिक एसिड होता है जो वजन कम करने में मदद करता है।

अश्वगंधा के सेवन से

मोटापा दूर करने के उपाय

अश्वगंधा के कुछ पत्तों को लेकर उनका पेस्ट बना लें। सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ इसे पिए। यह शरीर मे कॉर्टिसोल (Cortisol) नामक हार्मोन के मात्रा को कम करता है। कई व्यक्ति का तनाव के कारण भी मोटापा बढ़ता है यह अश्वगंधा तनाव के कारण बढ़ने वाले मोटापे को कम करता है।

इलायची के सेवन से

मोटापा दूर करने के उपाय

रोजाना रात को सोने से पहले दो इलायची का सेवन करके गर्म पानी पिए। ऐसा कम ऐसा करने से बजन कम करने में सहायता मिलती है। पेट में जमे हुए चर्बी को इलायची कम करता है और कॉर्टिसोल (Cortisol) नाम के हार्मोन को भी नियंत्रित करता है।

हरी इलायची में पोटैशियम, मैग्निशियम, विटामिन B1, B6 और विटामिन सी मौजूद होते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है। हरी इलायची शरीर में मौजूद अतिरिक्त जल को पेशाब के रूप में बाहर निकालता है।

सौंफ के सेवन से

मोटापा दूर करने के उपाय
मोटापा दूर करने के उपाय (Motapa Dur Karne Ke Upay)

रोजाना सोफा एक कप पानी में एक चम्मच सौंफ उबाल लें फिर इसे छानकर चाय की तरह पी ले। ऐसा करने से आपको ज्यादा भूख नहीं लगेगी और खाने की इच्छा कम होगी जो आपका वजन कम करने में मददगार साबित होगा।

त्रिफला चूर्ण के सेवन से

रात को एक चम्मच त्रिफला चूर्ण को एक गिलास पानी में भिगो लें। सुबह इसे उबाल ले और जब पानी आधा हो जाए तो गुनगुना होने के लिए छोड़ दें फिर उसमें दो चम्मच शहद मिलाकर पिए रोजाना इसे पीने से वजन कम होगा।

पुदीने के इस्तेमाल से

खाना खाने के आधे घंटे बाद पुदीना के पत्तियों के रस के कुछ बूंदे गुनगुने पानी में मिलाकर पिए यह आपके पाचन क्रिया को बढ़ाता है और मजबूत बनाता है।

रागी (मंडुआ) के इस्तेमाल से

अगर आप राखी को रोजाना अपने आहार में शामिल करते हैं तो यह एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ है जो मोटापा कम करने में मदद करता है यह पाचन क्रिया को धीमा करता है जिससे कार्बोहाइड्रेट शरीर में अवशोषित होने में ज्यादा समय लेता है।

चित्रक त्रिकटु और कुटकी के सेवन से

चित्र कुटकी और त्रिकटु को बराबर की मात्रा में मिलाएं और इस मिश्रण का रोजाना सेवन करें। अगर आपका वजन नॉर्मल बदन से 10 किलोग्राम ज्यादा है तो इस मिश्रण को दिन में दो बार भोजन करने के एक घंटा पहले ले इसका सेवन आप गुनगुने पानी के साथ खा सकते हैं। और अगर आपका वजन नॉर्मल वजन से 10 किलोग्राम कम है तो दिन में एक बार इस मिश्रण का सेवन करें।

हल्दी के सेवन से

हल्दी में कई गुण पाए जाते हैं जैसे आयरन, ओमेगा 3, विटामिन बी, सी, पोटैशियम, फैटी एसिड, फाइबर इत्यादि। यह शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और अत्यधिक चर्बी को घटाता है।

त्रिफला और गूगल के सेवन से

त्रिफला शरीर में अनावश्यक तत्व को बाहर निकालने में मदद करता है खासकर शरीर के हाथों में चिपके हुए पुराने मल को साफ कर देता है इससे कब्ज की समस्या से भी छुटकारा मिलता है। रोजाना त्रिफला और गूगल का सेवन करने से शरीर में मौजूद अत्यधिक चर्बी घटती है।

जीरा धनिया और अजवाइन के सेवन से

चाय तो आप रोजाना पीते होंगे चाय में जीरा धनिया अजवाइन और सौंफ को मिलाकर चाय बनाकर पीने से आपके शरीर में जमी चर्बी गलने लगेगी। रोजाना खाना खाने के बाद जीरा धनिया अजवाइन और सौंफ को उबालकर उसमें अदरक नींबू तुलसी के पत्ते मिलाकर चाय की तरह पिए।

आंवले के सेवन से

आमला में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी मौजूद होता है जो एक एंटीऑक्सीडेंट है। अमला का रोजाना सेवन से शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है चर्बी को गर्ल आता है और शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

गुनगुने पानी से

रोजाना सुबह खाली पेट गुनगुना पानी पीने से यह आप की चर्बी को धीरे धीरे गल आता है। गुनगुना पानी आप कभी भी पी सकते हैं भोजन करने के आधे घंटे बाद और सोने से पहले भी गुनगुने पानी का सेवन करने से लाभ मिलता है।

वजन कम करने के आहार

वजन घटाने के लिए यह जरूरी नहीं कि आप खाना पीना कम कर दे बल्कि है यह जरूरी है कि आपका खान-पान सही हो।

मोटापा कम करने के लिए आपको इन चीजों का ध्यान रखना होगा:-

फलों का सेवन करें

पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए अदरक ,करेला, जीरा, सरसों, पपीता, काली मिर्च, अजवाइन, पीपली, सोंठ, सहजन, पालक, चौलाई, पत्तेदार सब्जियां, तोरी, लौकी, बींस, परवल, सलाद, पत्ता गोभी, खीरा, गाजर, चुकंदर, ककड़ी, सेव, जो, बाजरा, रागी, दाले-मूंग, मसूर, आंवले का जूस, नींबू, शहद, एलोवेरा जूस, हल्दी, ग्रीन टी, स्टीम किये अंकुरित अनाज इत्यादि का सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत बनता है।

मौसम की सब्जी और फल का सेवन करें

जिस जगह पर रहते हैं वहां के मौसम के अनुसार जो फल और सब्जियां पैदा होने के साथ-साथ उपलब्ध भी होती है उनका सेवन करना चाहिए जैसे ठंडी जगह में ठंडे मौसम के गर्म तासीर वाले भोजन और गर्म जगहों में ठंडी तासीर वाले भोजन खाने चाहिए।

कम वसा वाले दूध के सेवन से

कम वसा वाले दूध को पीने से वजन घटता है क्योंकि इसमें कैलोरी कम होती है और कैल्शियम ज्यादा मात्रा में होती है।

भोजन करने का सही नियम

हर व्यक्ति को सुबह का भोजन भारी और पेट भर खाना चाहिए। दोपहर का भोजन उससे हल्का, जिसमें दाल और सब्जी की मात्रा ज्यादा हो और चावल की मात्रा कम हो। रात्रि का भोजन सबसे हल्का और कम मात्रा में होना चाहिए, हल्का खाना जल्दी पचता है।

  • सुबह का नाश्ता 10:00 बजे के बाद ना खाएं
  • दोपहर का खाना 2:00 बजे से पहले खाएं
  • रात का खाना 7:00 बजे से पहले खाएं

7:00 बजे के बाद कुछ भी भारी खाना ना खाएं क्योंकि सूर्यास्त के बाद पाचन क्रिया बहुत धीमी हो जाती है।

मोटापा दूर करने के लिए जीवन शैली

अगर आप भी मोटापे से परेशान हैं और जल्द से जल्द मोटापा कम करना चाहते हैं तो आपके जीवन शैली कुछ इस प्रकार से होनी चाहिए:-

  • सुबह उठकर योगा प्राणायाम करें और सैर पर जाएं।
  • 9:00 बजे से पहले नाश्ता कर ले।
  • रात का भोजन सोने से 2 घंटा पहले कर ले।
  • रात का भोजन हल्का और कम होना चाहिए जिससे कि आसानी से पच जाए।
  • मोटापा कम करने के लिए आप अपने आहार में सलाद, फल, सब्जियां, दाल, दही, छाछ का सेवन ज्यादा करें।
  • एक साथ कभी भी ज्यादा भोजन ना करें हमेशा थोड़ा-थोड़ा भोजन थोड़ी-थोड़ी देर में करना चाहिए।
  • हफ्ते में एक दिन उपवास रखें जिसमें आप फलों के रस और गुनगुना पानी का ही सेवन करें।
  • भोजन कम करने से या नहीं करने से वजन कभी भी नहीं खटता इसलिए वजन कम करने के लिए संतुलित भोजन करें और समय से करें।
  • अपना नाश्ता कभी भी नहीं छोड़े। सुबह का नाश्ता शरीर को काफी ऊर्जा देती है इसलिए नाश्ता हमेशा भारी और पेट भर करें।
  • पानी हमेशा घूट-घूट करके पिए।
  • रोजाना चार से 5 किलोमीटर तेजी से पैदल चले।
  • योगा और व्यायाम जरूर करें।

यह भी पढ़े –