निरोग रहने के उपाय, इन्हें आजमाएं और निरोगी बने

इन निरोग रहने के उपाय को आजमाएं और निरोगी (Nirog rehne ke upay) बने रहे। आज के समय में निरोगी रहना सब चाहते हैं क्योंकि निरोगी रहने से मनुष्य का शरीर अच्छा और दिमाग का विकास अच्छे से होता है। रोग हो ही नहीं तो बहुत अच्छा। यदि हो भी जाएं तो उनसे छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर स्वयं बनें। छोटे-छोटे रोगों को प्राकृतिक उपायों से दूर करना कठिन भी तो नहीं। जरूरत है इन्हें जानने और अपनाने की। स्वस्थ रहने के कुछ उपाय बताये गये है।

स्वस्थ रहने के उपाय

निरोग रहने के उपाय

यह भी पढ़े – घरेलू उपाय से रोगों का इलाज और कुछ घरेलू देशी नुस्खे

निरोग रहने के उपाय (Nirog rehne ke upay)

  1. कान में दर्द होने लगा हो, या अक्सर रहता हो। इसे ठीक करने के लिए घी में लौंग घिसें। कनपटी पर मलें। आराम आ जाएगा। लौंग की जगह बादाम हो तो भी दर्द नहीं रहेगा।
  2. चदि चेचक निकलने के लक्षण हों और आप नहीं चाहते कि यह निकले, बहेड़े की गुठली लें। इसे भुजा में बांधें। खतरा टल जाएगा।
  3. कहीं भी चोट लग जाए। दर्द न हो, आराम मिले इसके लिए तारपीन में रूई भिगोएं और चोट वाले स्थान पर बांधे। आराम मिलेगा।
  4. विशूचिका रोग होने पर बेल, सौंठ और जायफल का काढ़ा तैयार करें। इसे रोगी को पिला दें। रोग गायब होने लगेगा।
  5. यदि पानी में काम करने, पानी के खेतों में चलने-फिरने से पांव फट जाएं तो आसान है उपचार। सरसों का तेल लगाकर पिसी हल्दी बुरकें । यदि यह उपचार रात सोने से पहले करें तो भी ठीक।
  6. यदि हिचकी अक्सर लगती हो तो सूखा नींबू जलाएं। इसकी राख रखें। इसे शहद में मिलाकर रोगी को चटाएं फायदा होगा।
  7. यदि किसी को शीत पित्त से बड़ी परेशानी रहती हो तो चिरौंजी को दूध में पीसें। अब इससे बदन की मालिश करें व आराम पाएं।
  8. दाद-खाज-खुजली जैसी तकलीफ होने पर एक चुटकी राई लेकर आधा चम्मच घी में रगड़ें। इसे दाद से पीड़ित स्थान पर लगाएं, दिन में तीन बार इसे लगाते रहें। आराम पाएंगे।
  9. सिर दर्द हो या माथा दर्द कर रहा हो, घी में बादाम को घिसें। इसे माथे पर लगाएं। आराम मिलेगा।
  10. यदि किसी को खूब जुकाम रहने लगा हो-या जुकाम की-सी प्रवृत्ति बन गई हो तो पीपल के पत्तों का रस निकालें। इसे शहद में मिलाएं। इसे चाटें। यह दिन में दो बार, प्रातः सायं लेवें। दो ही दिनों में जुकाम जाता रहेगा।
  11. प्रसूति में अधिक तकलीफ़ हो जाने पर नाभि और उपस्थ के बीच के भाग पर धीरे-धीरे मालिश करें। इस स्थान को पेडू भी कहते हैं। प्रसूति आराम से हो जाएगी। मगर यह कार्य उसी धाया से करवाएं, जो इसकी सही जानकार हो ।
  12. जो महिला अपने बाल मुलायम, चमकदार तथा घने चाहती हो तो उसे शिकाकाई तथा सूखे आंवले समान भाग में लेने होंगे, उन्हें कूट-पीसकर कपड़ छान कर रखना होगा। मुट्ठी भर रात को एक लीटर पानी में भिगोएं सुबह इस पानी को छानकर, सिर धोने से लाभ होगा। इसे हर तीसरे दिन, सात बार करें। सर्दी में सप्ताह में एक बार ही करें।

यह भी पढ़े – बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये सरल टिप्स

Subscribe with Google News:

Leave a Comment