पानी पीने का सही तरीका क्या है पानी पीते समय बरतें कुछ जरूरी सावधानियां

पानी पीने का सही तरीका क्या है पानी पीते समय बरतें कुछ जरूरी सावधानियां नहीं तो स्वस्थ को पहुंच सकता है बड़ा नुकसान। साधारण सी बात है पानी पीना जब इच्छा हुई, प्यास लगी, उठे। गिलास लिया और पानी पी मगर नहीं। इसमें भी बड़ी सावधानी की आवश्यकता है। आइए जानें।

पानी पीने का सही तरीका क्या है

पानी पीने का सही तरीका

यह भी पढ़े – शरीर में पानी की कमी के नुकसान जानकर रह जायेंगे हैरान शरीर में पानी की कमी न होने दें

पानी पीने का सही तरीका

  • पानी हो या कोई भी पेय, जैसे दूध, लस्सी, जूस आदि। इसे लगातार या गटागट नहीं पीना चाहिए। इसे शनैः-शनैः, घूंट-घूंट पीना चाहिए। कुछ शरीर विशेषज्ञों का मानना है कि इसे चबा-चबाकर पीना चाहिए। मुंह में घुमाना चाहिए। फिर निगलना चाहिए। एकाएक तो कभी भी नहीं।
  • पानी का स्वच्छ होना जरूरी है। वर्तन, जिनमें पानी रखें या जिनसे पानी पीएं, पूरी तरह स्वच्छ हों।
  • पानी को उबालकर, ठंडा करके पीना सदा हितकर होता है, विशेषकर बरसात के दिनों में ।
  • गर्मी है। बर्फ का पानी नहीं पीना चाहिए। इसकी तासीर गरम होती है। यह शरीर को राहत न देकर, गर्मी करती है।
  • यदि सुराही, घड़ा या मटका मिले तो उसमें रखा पानी शरीर को शीतलता पहुंचाता है। प्यास भी बुझती है।
  • कुछ फल हैं, जिनको खाने के बाद पानी नहीं पीना चाहिए पहचान के लिए ये चिकने होते हैं जैसे खरबूज, तरबूज, आम, ककड़ी, खीरा आदि।
  • अपच, कब्ज़, पीलिया, खून की बढ़ी हुई हरारत, पेशाब के समय जलन होना, ऐसे रोगों में अधिक पानी पीना लाभकर है।
  • यदि किसी को लकवा, हिचकी, खांसी, नजला, जुकाम, फ्लू, पेट दर्द आदि में से कोई शिकायत हो तो सदा गुनगुना पानी पीया करें। ठंडा कभी नहीं। वरना रोग में वृद्धि होगी।
  • भोजन से तुरन्त पहले, भोजन के साथ तथा तुरन्त बाद पानी पीना मेदे को खराब करता है। आधे घंटे का अन्तराल ज़रूरी है।
  • यदि नगर में या आसपास कोई रोग फैला हो तो पानी हर अवस्था में उबालें, ठंडा करें, ढंककर रखें तभी इस्तेमाल करें।
  • गर्मी के मौसम में पेट तो भरा होता है, मगर झूठी प्यास तंग करती है। ऐसे में बार-बार पानी न पीएं। फलों सब्जियों का रस, या फिर पीते हों तो चाय का कप पी लें। ऐसी हालत में यदि बार-बार पानी ही पीते रहेंगे तो हैजा आदि हो सकता है।
  • बाहर से धूप में चलकर आने पर, या कोई व्यायाम आदि करने पर तुरन्त पानी मत पीएं, भले ही प्यास परेशान करे। रुकें, फिर पीएं।
  • लू है। गर्मी है। प्यास बुझ ही नहीं रही। चाय भी नहीं पीते। जूस भी नहीं है। ऐसे में नींबू डालकर नमकीन या मीठा पानी पी लें।
  • गर्म पदार्थ खाकर ठंडा पानी नहीं पीएं। ठंडा खाकर गर्म भी पीना मना है।
  • पानी पी लेने के तुरन्त बाद कोई कठोर परिश्रम वाला काम न करें।

हमें ये सब बातें ध्यान में रखनी चाहिए। तभी लाभ होगा।

यह भी पढ़े – दावत में खाना खाने से हो सकते है स्वास्थ्य को ये नुकसान देखे पूरी जानकारी

Subscribe with Google News:

Leave a Comment