अपने मित्र को परीक्षा में असफल होने पर सांत्वना पत्र लिखिए?

अपने मित्र को परीक्षा में असफल होने पर सांत्वना पत्र लिखिए :- सेकेंडरी परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने पर अपने मित्र को संवेदना प्रकट करते हुए पत्र लिखें। परीक्षा में असफल होने पर मित्र को संवेदना पत्र? परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने पर मित्र को सांत्वना पत्र? परीक्षा में फेल होने पर मित्र को संवेदना पत्र?

अपने मित्र को परीक्षा में असफल होने पर सांत्वना पत्र लिखिए

अपने मित्र को परीक्षा में असफल होने पर सांत्वना पत्र लिखिए
Pariksha Me Fail Hue Mitra Ko Santvana Patra

यह भी पढ़े – परीक्षा में प्रथम आने के उपलक्ष्य में मित्र को बधाई पत्र?

सदर बाजार, झाँसी
दिनाँक – 29 मार्च, 20XX

प्रिय मित्र अशोक
नमस्कार।

आज ही तम्हारा पत्र मिला। तुम सैकेंडरी परीक्षा में अनुत्तीर्ण हो गए हो, यह पढ़कर मुझे अत्यन्त ही दुःख हुआ। तब तुम्हें कितना दुःख हुआ होगा। इसकी कल्पना मैं सहज ही कर सकता हूँ।

प्रियवर, मैं जानता हूँ कि तुमने यथासम्भव अपना समय नष्ट नहीं किया और अध्ययन में लगे ही रहे। तब इस असफलता के दोषी तुम नहीं हो। तुम्हारे पूज्य पिताजी की असामयिक मृत्यु, भाई के व्यापार में घाटा और माताजी की बीमारी आदि ऐसी दैवी विपत्तियाँ तुम पर आईं, जिनके कारण तुम्हारा मन विचलित हो गया था और घर की व्यवस्था भी अस्त-व्यस्त हो गयी थी। वस्तुतः इन्हीं कारणों से तुम्हें असफलता का मुँह देखना पड़ा। मित्र, जीवन संघर्षमय है। इसके पथ पर अनेक टेढ़े-मेढ़े मोड़ और काँटे-कंकड़ आया ही करते हैं, किन्तु साहसी यात्री उनके कारण रुकते नहीं हैं।

‘कस्यात्यन्तं सुखमुपनतं दुःखमेकान्ततो वा ।
नीचैर्गच्छत्युपरि च दशा चक्रनेमि क्रमेण ।’

किसी को भी निरन्तर सुख या निरन्तर दुःख कभी नहीं मिलता। रथ के पहिए के समान जीवन की दशा बदलती रहती है। तुम्हारा भाग्य-चक्र यदि आज नीचे आया है तो कल निश्चित ही वह ऊपर भी जाएगा। प्रकृति का नियम ही ऐसा है। अतः साहस न त्यागो। हृदय में आत्म-विश्वास बनाये रखो। मुझे विश्वास है कि मेरी बातों को ध्यान में रखकर तुम धैर्य और साहस से काम लेकर अध्ययन जारी रखोगे। ईश्वर निश्चित ही तम्हारी सहायता करेंगे।

पत्रोत्तर की प्रतीक्षा में।

अभिन्न हृदय
कमलेश

यह भी पढ़े – अपने मोहल्ले की गंदगी दूर करने के लिए स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र?

Leave a Reply

Your email address will not be published.