राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना 2022: पात्रता, दस्तावेज, लाभ और इसका उद्देश्य

जाने राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना 2022 क्या है। केंद्र सरकार द्वारा देसी बोवाइन नस्ल के पशुओं के विकास और संरक्षण के लिए यह योजना 2014 में शुरू की गई है। भारत के केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने 28 जुलाई 2014 से प्रारम्भ यह राष्ट्रव्यापी योजना (Rashtriya Gokul Misson Yojana 2022) पुरे देश में लागु की। इस योजना का उद्देश्य भारतीय नस्ल के दुधारू पशुओं को वैज्ञानिक और समग्र तरीके से बढ़ावा देना है। इसके माध्यम से किसानों को पशुपालन के लिए प्रेरित किया जायेगा। महिलाओं की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए इस योजना में 70 फीसदी भागेदारी महिलाओं की रहेगी।

सन् 2021 से 2026 तक इस योजना को पूरा करने के लिए कुल 2400 करोड़ रुपय का बजट बनाया गया है। जो लोग इस योजना से जुड़ना चाहते हैं उनके लिए आवश्यक पात्रता की जानकारी विस्तार में नीचे दी गई है। राष्ट्रिय गोकुल मिशन योजना की सम्पूर्ण जानकारी जैसे इसके उद्देश्य, लाभ, आवश्यक दस्तावेज, आवश्यक पात्रताएँ आदि नीचे बिस्तार में उल्लेख किया है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना 2022

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना 2022

यह भी पढ़े – पीएम किसान योजना का पैसा कैसे चेक करें? 12वीं किस्त ऐसे चेक करें?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के मुख बिंदु

योजना की शुरआत28 जुलाई 2014
कब से कब तक लागू2021 से 2026 तक
कुल लागत2400 करोड़
योजना का उद्देश्यभारतीय नस्ल के दुधारू पशुओं को बढ़ावा देना
लागु योजनाकेंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थीभारत देश के किसान
क्रियान्वयन विभागमत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी विभाग
विभागराष्ट्रीय पशुधन विकास योजना के तहत संचालित
महिलाओं की भागीदारी70%
आधिकारिक वेबसाइटwww.dahd.nic.in

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उद्देश्य

Rashtriy Gokul Mission Yojana 2022 केंद्र सरकार की योजना है। यह योजना अम्ब्रेला योजना राष्ट्रीय पशुधन विकास योजना के तहत शुरू की गई है। इस योजना का उद्देश्य दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा दिया जायेगा। साथ ही उच्च नस्ल के दुधारू पशुओं के रख-रखाव तथा संरक्षण को बढ़ावा देना है। इस मिशन के सफलता पूर्वक लागू होने से किसानों की आय में वृद्धि होगी और देश की महिलाओं का आर्थिक रूप से विकास होगा।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के लाभ

केंद्र सरकार की इस RGM योजना से भारत के किसान वर्ग के लोग लाभान्वित है। इस योजना के जरिये से किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत होने में सहायता मिलेगी। इस राष्ट्रिय गोकुल मिशन योजना के लाभ के बारे में अधिक जानकारी निम्नलिखित है।

  1. देसी बोवाइन नस्लों के दुधारू पशुओं का संरक्षण और बढ़ावा दिया जायेगा।
  2. नई तकनीकों के माध्यम से अच्छी नस्लों के पशुओं को कृत्रिम गर्भाधान के जरिये बढ़ावा दिया जायेगा।
  3. दूध के उत्पादन में बढ़ोतरी होगी और इससे किसानों की वित्तीय अवस्था में सुधर आएगा।
  4. किसानों द्वारा पाले जाने वाले पशुओं की अनुवांशिकी द्वारा इनकी नस्लों को बेहतर बनाया जायेगा।
  5. इस योजना के लागु होने से पुरे देश में दूध की डिमांड को आसानी से पूरा किया जा सकेगा।
  6. इस RGM मिशन के जरिये डेयरी सेक्टरों को भी बढ़ावा मिलेगा।
  7. योजना को सुचारु रूप से चलने के लिए गोपाल-ग्रामों की स्थापना की जाएगी जिससे लोग आसानी से इस योजना से जुड़ सकें और इसका लाभ प्राप्त कर सकें।
  8. इसमें 70 % भागीदारी महिलाओं की रहेगी जिससे महिलाओं की आर्थिक स्थिति मजबूत रहेगी।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना ( RGMY ) के लिए आवश्यक दस्तावेज

इस RGM योजना का लाभ उठाने के लिए जो किसान मित्र आवेदन करना चाहते हैं। उन लोगों को आवेदन करने के लिए कुछ दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ेगी। RGM योजना के आवश्यक दस्तावेज निम्नलिखित है।

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • इनकम सर्टिफिकेट
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल-ID

Rashtriya Gokul Misson Yojana में आवश्यक पात्रता

इस योजना में आवेदन करने से पहले यह जान लेना जरुरी है कि क्या आप इस योजना के लिए सही पात्र हैं या नहीं। आवेदक की आवश्यक पात्रताओं की जानकारी निम्नलिखित है।

  • आवेदक को भारत का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक को किसान होना चाहिए फीर चाहे छोटे स्तर का हो या बढे स्तर का।
  • आवेदक की उम्र 18 वर्ष या उससे अधिक होने चाहिए।
  • इस योजना के सभी नियमों को पूरा करने वाले व्यक्ति ही इस योजना के लिए आवेदन कर सकेंगे।

यह भी पढ़े – राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन क्या है? राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन की शुरुआत कब की गई थी?

Subscribe with Google News:

Leave a Comment