Indian Army में सिपाही की भर्ती कैसे होती है? भारतीय सेना में भर्ती होने का तरीका?

Indian Army में सिपाही की भर्ती कैसे होती है :- भारतीय सेना में देश की सेवा करने के जज्बे से भारतीय सेना में आते हैं और एक सैनिक को भारतीय सेना में एक अलग ही सम्मान प्राप्त होता है। भारतीय सेना में आने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है क्योंकि सेना में भर्ती होने से पहले इसमें शारीरिक मापदंड, फिजिकल टेस्ट, और एंट्रेंस टेस्ट पास करना होता है। इंडियन आर्मी का फिजिकल टेस्ट बहुत ही कठिन माना जाता है।

Indian Army में सिपाही की भर्ती कैसे होती है

Indian Army में सिपाही की भर्ती कैसे होती है

इंडियन आर्मी मैं सिपाही की भर्ती के लिए युवा कई महीनों तक कड़ी मेहनत करते है। भारतीय सेना में जॉब पाना बहुत ही आसान है भारतीय सेना में चयन प्रक्रिया किस टाइप में की जाती है। जिन अभ्यर्थियों को भारतीय सेना में सैनिक पद के लिए आवेदन करना है उनकी आयु 18 वर्ष से 21 वर्ष की होना अनिवार्य है और उनकी शैक्षिक योग्यता यदि वह 10 पास कर चुके हैं और उनकी आयु 18 वर्ष हो चुकी है वह आवेदन कर सकते हैं।

इंडियन आर्मी में सिपाही पद के लिए चयन प्रक्रिया

भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए उम्मीदवारों को सबसे पहले इसकी आधिकारिक वेबसाइट (joinindianarmy.nic.in) पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कराना है। रजिस्ट्रेशन कराने के बाद चयन प्रक्रिया आगे बढ़ती है और उम्मीदवारों को चयन के लिए बुलाया जाता है। इंडियन आर्मी में चयन प्रक्रिया इस प्रकार की जाती है।

शारीरिक मापदंड

भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए सबसे पहले आपको शारीरिक मापदंड कराना होता है। सिपाही पद की भर्ती के लिए अभ्यर्थी की न्यूनतम हाइट 169 सेंटीमीटर / 5.5 Feet होना अनिवार्य है। पहाड़ी इलाकों के अभ्यार्थियों के लिए यह सीमा 163 सेंटीमीटर / 5.35 Feet निर्धारित की गई है। भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए उम्मीदवारों का चेस्ट का साइज 77 सेंटीमीटर न्यूनतम मारा जाता है और सीना नापने के बाद उसको फुलाने पर 5 सेंटीमीटर अधिक खुलना चाहिए। भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए न्यूनतम वजन 48 किलोग्राम होना अनिवार्य है।

1600 मीटर की दौड़

उम्मीदवारों को भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए कितने मीटर की दौड़ होती है यह जानना बहुत ही आवश्यक है भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए 1600 मीटर की दौड़ 5 मिनट 40 सेकंड में पास करने वाले अभ्यर्थियों को पूरे नंबर दिए जाते हैं सोला सौ मीटर की डॉट कॉम भारतीय सेना में सबसे कठिन फिजिकल में माना जाता है। यदि अभ्यर्थी 16 मीटर की दौड़ 5 मिनट 40 सेकंड में पूरा करता है तो अभ्यर्थी को पूरे 60 अंक दिए जाते हैं और यदि अभ्यर्थी 5 मिनट 41 सेकंड में पूरा करता है तो इसके बाद अभ्यर्थियों को 48 अंक दिए जाते हैं।

पहाड़ी क्षेत्र के उम्मीदवारों जो 5000 फीट से 9000 फीट से आते हैं उनको 30 सेकंड अधिक दिए जाते हैं और जो उम्मीदवार 9000 फीट से 12000 फीट के पहाड़ी क्षेत्र से आते हैं उनको 120 सेकंड एक्स्ट्रा दिए जाते हैं।

Push up

दौड़ पास करने के बाद अन फिजिकल टेस्ट भी देने पड़ते हैं जिसमें उम्मीदवारों को push up कराया जाता है। जो उम्मीदवार पूरे 10 पुशअप लगाता है उसको 40 अंक दिए जाते हैं और जो अभ्यार्थी नो पुशअप लगाता है उसको 33 अंक दिए जाते हैं और 8 पुश अप लगाने वाले अभ्यर्थी को 27 अंक दिए जाते हैं।

Long Jump

भारतीय सेना में लॉन्ग जंप पास करने के लिए अभ्यर्थियों को 9 फीट की लंबी कूद करनी होती है जो अभ्यर्थी इस को आसानी से पार कर लेते हैं उनको अगले फिजिकल टेस्ट के लिए आगे बढ़ा दिया जाता है और जो अभ्यर्थी इस 9 फीट की जंप को पार नहीं कर पाते उनको यहीं से उन्हें यहीं से वापस घर भेज दिया जाता है क्योंकि यह कूद बहुत ही महत्वपूर्ण होती है यदि आप जंप नहीं कर सकते तो फिर आर्मी में आपको भर्ती नहीं किया जा सकता। जो अभ्यर्थी यह जंप पास कर लेते हैं इसके लिए उनको कोई अंक नहीं दिया जाता है परंतु यह पास करना बहुत ही अनिवार्य है।

ZigZag Balance Test

यह फिजिकल टेस्ट बहुत ही आसान होता है इसमें आपको जिगजाग बने पट्टी पर चलना होता है ऐसा इसलिए करवाया जाता है क्योंकि पहाड़ी क्षेत्रों में जंगलों में आपको सीधे रास्ते नहीं मिलेंगे इसलिए इस रास्ते पर चलने के लिए आप पक्के हैं कि नहीं इस चीज के लिए यहां पर इसका टेस्ट लिया जाता है और इसके लिए अभ्यर्थी को कोई भी अंक नहीं दिए जाते हैं।

डॉक्यूमेंट चेक

सभी प्रकार के फिजिकल टेस्ट पार करने के बाद अभ्यर्थियों को अपने सभी डाक्यूमेंट्स चेक कराने होते हैं सभी डाक्यूमेंट्स को चेक कराने के बाद आगे की प्रक्रिया शुरू हो जाती है।

लिखित परीक्षा

जो उम्मीदवार फिजिकल टेस्ट पास कर चुके हैं उन उम्मीदवारों को एक निर्धारित तिथि पर लिखित परीक्षा के लिए बुलाया जाता है इस लिखित परीक्षा में 100 से 120 क्वेश्चन वाला एक प्रश्न पत्र दिया जाता है और उम्मीदवारों को इस प्रश्न पत्र को हल करना होता है।

मेडिकल टेस्ट

फिजिकल टेस्ट और लिखित परीक्षा पास होने के बाद उम्मीदवारों को एक निश्चित तिथि पर मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है इसमें अभ्यार्थी के पूरे शरीर का टेस्ट लिया जाता है और इसमें सबसे महत्वपूर्ण टेस्ट अभ्यार्थियों को अपने दोनों पैरों को जोड़ने पर यदि जिन अभ्यर्थियों के पैर के घुटने आपस में जोड़ते हैं तो उन अभ्यार्थियों मेडिकल टेस्ट में अनफिट कर दिया जाता है और उनको तुरंत ही उनके घर वापस भेज दिया जाता है। जो अभ्यर्थी मेडिकल टेस्ट पार कर लेते हैं यह उनका आखरी पड़ाव होता है जिसमें अभ्यार्थी पास करने के बाद भारतीय सेना में शामिल हो जाता है।

यह भी पढ़े – संडे की छुट्टी कब से शुरू हुई? भारत में संडे की छुट्टी कब से लागू हुई?

Leave a Reply

Your email address will not be published.