शरीर में पानी की कमी के नुकसान जानकर रह जायेंगे हैरान शरीर में पानी की कमी न होने दें

शरीर में पानी की कमी के नुकसान जानकर रह जायेंगे हैरान शरीर में पानी की कमी न होने दें, शरीर को चलाने के लिए वायु के बाद पानी का नम्बर आता है। ठोस पदार्थों के बिना भी हम अपना शरीर चला सकते हैं, मगर पानी के बिना नहीं । हमारे शरीर में 70% पानी ही है, शेष 30% ठोस । रक्त में 90$ पानी है, शेष ठोस। अतः बिना पानी शायद ही कोई व्यक्ति ज़िन्दा रह पाए।

शरीर में पानी की कमी न होने दें

शरीर में पानी की कमी के नुकसान

यह भी पढ़े – दावत में खाना खाने से हो सकते है स्वास्थ्य को ये नुकसान देखे पूरी जानकारी

शरीर में पानी की कमी के नुकसान

  • शास्त्रों में पानी को अमृत माना गया है। जल ही जीवन है। जल ही जीवन की सांसें। बिना पानी जीवित रहना असम्भव है।
  • पानी हमारे शरीर के स्वास्थ्य व शक्ति की रक्षा करता है।
  • पानी अन्दर ही अन्दर अनेक रोगों का उपचार किया करता है।
  • पानी से हम नहाकर, हाथ-मुंह धोकर बाहरी स्वच्छता करते हैं जबकि पानी अन्दर ही अन्दर शरीर को स्वच्छ, निर्मल बनाने में लगा रहता है। पेशाब और पसीना आदि के द्वारा अन्दर से दूषित तथा विजातीय तत्त्वों का बहिष्कार करता है।
  • पानी अपने आप में एक औषधि है जो भीतर ही भीतर शरीर को रोगमुक्त करने में लगी रहती है। पानी चिकित्सा द्वारा हम भी तो रोगों का शमन कर सकते हैं।
  • प्यास लगने पर जो पानी हम पीते हैं, इसके अतिरिक्त भी हमारे शरीर में खूब पानी विद्यमान रहता है।
  • यदि दस्त, उल्टियां, पेचिश… कुछ भी लग जाए तो इससे शरीर में पानी की कमी हो जाना आम बात है। तभी तो इसके लिए मीठा, नमक से बना विशेष जल पीते रहने की सलाह दी जाती है। ‘डीहाइड्रेशन’ न हो, इसके लिए सचेत रहना होता है।
  • हमारे खाद्य पदार्थों में भी पानी विद्यमान रहता है, जिन्हें खाने से शरीर में पानी की कुछ आपूर्ति हो जाती है।
  • फल-सब्ज़ियों के माध्यम से भी हमारे शरीर में पानी पहुंचता रहता है, जो बहुत अच्छी बात है। संतरा, आम, टमाटर, गाजर, मूली, मौसमी, अमरूद, सेब सबमें तो पानी रहता है।
  • पानी हमारे लिए पाचक भी है। इसके शरीर में विद्यमान होने से भोजन को पचने में मदद मिलती है।
  • पानी रक्त में उचित मात्रा में मिलकर इसे पतला बनाता है। तभी तो शरीर में रक्त संचार ठीक से हो पाता है। खून जमता नहीं। यदि पानी की कमी होगी तो खून जम जाएगा। अथवा खूब गाढ़ा हो जाएगा। रक्त संचार नहीं हो पाएगा। सब अंगों को पोषण नहीं मिलेगा साथ ही, शारीरिक क्रिया में बाधा होगी, जो घातक भी हो सकती है।
  • हमारा जिगर, मेदा, गुर्दे अपने कार्य पानी की मदद से पूरे कर पाते हैं।
  • शरीर का तापमान बढ़कर असामान्य न हो जाए, पानी यह देखता है। जो इस ओर से लापरवाह होकर, शरीर में पानी की कमी होने देते हैं, वे रोगों के शिकार हो जाते हैं। अस्वस्थ रहते हैं।

यह भी पढ़े – शुद्ध व ताजी हवा के फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे स्वस्थ को होते है कई लाभ

अस्वीकरण – यहां पर दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी है। यहां पर दी गई जानकारी से चिकित्सा कि राय बिल्कुल नहीं दी जाती। यदि आपको कोई भी बीमारी या समस्या है तो आपको डॉक्टर या विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए। Candefine.com के द्वारा दी गई जानकारी किसी भी जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Subscribe with Google News:

Leave a Comment