तलवारबाजी का इतिहास हिंदी में और तलवारबाजी के प्रकार

तलवारबाजी का इतिहास हिंदी में और तलवारबाजी के प्रकार के बारे में जानकारी दी जा रही है। प्रारम्भिक दौरा में युद्ध या लड़ाई तलवार से हुआ करती थी परन्तु आज तलवार की नकली लड़ाई हो रही है। जो भारत में मुहर्रम आदि त्योहारों पर दिखाई पड़ती है, परंतु विदेशों में यह नकली लड़ाई भी बढ़िया खेल के रूप में परिवर्तित हो गई है, जिसे अंग्रेजी में फेलिंग और हिन्दी में असिक्रीड़ा कह सकते हैं।

तलवारबाजी का इतिहास हिंदी में और तलवारबाजी के प्रकार

तलवारबाजी का इतिहास हिंदी में और तलवारबाजी के प्रकार

यह भी पढ़े – कुश्ती के नियम, कुश्ती के प्रकार और कुश्ती के दाव पेच हिंदी में

यह शब्द वस्तुतः अंग्रेजी “डिफेंस” से निकला है, जिसका अर्थ है रक्षा। पहले दो व्यक्तियों में गहरा मनमुटाव हो जाने पर न्याय के लिए वे इस विचार से तलवार से लड़ पड़ते थे कि ईश्वर उसकी रक्षा करेगा जिसके पक्ष में धर्म है। इस प्रकार का द्वंद्वयुद्ध (डुएल) तभी समाप्त होता था जब एक को घातक चोट लग जाती थी। परंतु प्रायः सभी देशों की सरकारों ने द्वंद्वयुद्ध को दंडनीय घोषित कर दिया।

इसलिए फेसिंग में लड़ने की रीतियाँ तो वे ही रह गई जो द्वंद्वयुद्ध में प्रयुक्त होती थीं, परंतु अब प्रतिद्वंद्वी को असि (तलवार) से छू भर देना पर्याप्त समझा जाता है। प्रतिद्वंद्वी को असि से छू दिया जाए और स्वयं उसकी असि से बचा जाए, फेसिंग का कुल खेल इतना ही है। इन दिनों भी फेसिंग बहुत अच्छा खेल समझा जाता है और ओलम्पिक खेलों में (उसे देखें) फेसिंग अथवा तलवारबाजी प्रतियोगिता अवश्य होती है।

तलवारबाजी के प्रकार

फेसिंग में तीन तरह के यंत्रों का प्रयोग होता है। प्रत्येक की प्रतिद्वंद्विता अलग-अलग होती है और इनसे खेलने का ढंग भी बहु कुछ भिन्न होता है। प्रत्येक शस्त्र के लिए अलग शिक्षा लेनी पड़ती है और अभ्यास करना पड़ता है। इन यंत्रों के नाम हैं स्वायल (फायल), एपे (मचमम) और सेबर।

पवायल, किरच की तरह का यंत्र है जिसका फल पतला, लचीला और 34 इंच लंबा होता है। कुल तौल नौ छटांक होती है। यह कोंचने का यंत्र है, परंतु प्रतियोगिताओं में नोंक पर बटन लगा दिया जाता है, जिसमें प्रतिद्वंद्वी घायल न हो। खेल में चकमा देना (निशाना कहीं और का लगाना तथा मारना कहीं और), विद्युद्गति से अचानक मारना, बचाव और प्रतयुत्तर (रिपाँचस्ट, ऐसी चाल कि प्रतिद्वंद्वी का वार खाली जाए और अपना उसे लग जाए) ये ही विशेष दांव हैं।

इस खेल में बड़ी फुरती और हाथ पैर का ठीक-ठीक साथ चलाना इन्हीं दोनों की विशेष आवश्यकता रहती है; बल की नहीं। इसलिए इस खेल में स्त्रियाँ भी मर्दों को हराती देखी गई हैं। फ्वायल की नोक प्रतिद्वंद्वी को चौचक लगनी चाहिए। केवल धड़ पर चोट की जा सकती है। पाँच बार छू जाने पर व्यक्ति हार जाता है (स्त्रियों की प्रतियोगिता में चार बार पर्याप्त हैं)।

एपे तिकोना होता है, फ़्वायल से भारी होता है और इसका मुष्टिकासरंक्षक बड़ा होता है। इसकी नोकवाले बटन पर लाल रंग में डुबाई हुई मोम की कीलें लगी रहती हैं जिनके लगते ही कपड़ा रंग जाता है। इससे निर्णायकों को सुगमता होती है। प्रतिद्वंद्वियों का श्वेत वस्त्र धारण करना अनिवार्य होता है। अब बहुधा एपे में विद्युत् तार लगा रहता है जिससे प्रतिद्वंद्वी के छू जाने पर घंटी बजती है और बत्ती जलती है; धड़, हाथ, पैर, सिर कहीं भी चोट की जा सकती है।

तीन बार चोट खाने पर व्यक्ति हार जाता है। सेबर तलवार की तरह होता है। इससे कोंचते भी हैं, काटते भी हैं। यह स्वायल से थोड़ा ही अधिक भारी होता है। इससे सिर, भुजाओं और धड़ पर चोट की जा सकती है। जो व्यक्ति पाँच बार प्रतिद्वंद्वी को पहले मार दे वह जीतता है, चाहे कोंचकर मारे, चाहे काटने की चाल से। इसका खेल अधिक दर्शनीय होता है।

यह भी पढ़े – मलखंब खेल क्या है मलखंब के प्रकार और मलखंब खेल की जानकारी

Follow us on Google News:

Kamlesh Kumar

मेरा नाम कमलेश कुमार है। मैं मास्टर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन (Master in Computer Application) में स्नातकोत्तर हूं और CanDefine.com में एडिटर के रूप में कार्य करता हूँ। मुझे इस क्षेत्र में 3 वर्ष का अनुभव है और मुझे हिंदी भाषा में काफी रुचि है। मेरे द्वारा स्वास्थ्य, कंप्यूटर, मनोरंजन, सरकारी योजना, निबंध, जीवनी, क्रिकेट आदि जैसी विभिन्न श्रेणियों पर आर्टिकल लिखता हूँ और आपको आर्टिकल में सारी जानकारी प्रदान करना मेरा उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *