उज्ज्वला 2.0 योजना ऑनलाइन आवेदन: उज्ज्वला योजना 2.0 के लिए ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन, ये है जरूरी दस्तावेज और पात्रता

उज्ज्वला 2.0 योजना ऑनलाइन आवेदन:- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को बुंदेलखंड के महोबा से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए उज्ज्वला योजना दूसरा चरण (ujjwala yojana dusra charan का शुभारंभ करते हुए कहा कि उज्ज्वला योजना (Ujjwala 2.0) के पहले चरण में 8 करोड़ लोगों को मुफ्त गैस कनेक्शन मिले। इससे माताओं, बहनों और बेटियों के स्वास्थ्य, सुविधा व सशक्तीकरण के संकल्प को बल मिला।

उज्ज्वला 2.0 योजना ऑनलाइन आवेदन

उज्ज्वला 2.0 योजना ऑनलाइन आवेदन
ujjwala yojana dusra charan

किसको मिलेगा लाभ उज्ज्वला योजना 2.0 में

अब दूसरे चरण में लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूरों को भी लाभ मिलेगा। उन्हें कनेक्शन लेने के लिए सिर्फ खुद का लिखा पते का प्रमाणपत्र (सेल्फ डिक्लेरेशन देना) होगा। पानी की तरह अब हर घर की रसोई तक गैस भी पहुंचेगी।

गन्ने के अवशेष से उप्र के 70 जिलों में बायोफ्यूल गैस प्लांट बनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। बदायूं, गोरखपुर और पंजाब के बठिंडा में बायोफ्यूल बनाने के लिए बड़े कांप्लेक्स बनाए जा रहे हैं। किसानों को कचरे का दाम मिलेगा, जबकि हजारों युवा रोजगार पाएंगे। इससे देश के विकास का इंजन दौड़ेगा।

इससे पहले प्रधानमंत्री के उज्ज्वला-2.0 योजना लांच करते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 10 लाभार्थियों को गैस कनेक्शन सौंपे। देश में एक करोड़, प्रदेश में एक लाख से अधिक और महोबा जिले में एक हजार लाभार्थियों को पहले दिन कनेक्शन दिए गए।

क्या मिलेगा उज्ज्वला योजना 2.0 में

उज्ज्वला-2.0 के तहत प्रत्येक लाभार्थी को भरा हुआ एक सिलिंडर, : रेगुलेटर व गैस चूल्हा दिया गया। पहले चरण में छूटे लाभार्थियों को वरीयता दी जाएगी। लाभार्थियों को अगली रीफिल के पैसे देने पड़ेंगे। मुख्यमंत्री ने समारोह में मुजफ्फर नगर में निर्मित कंप्रेस्ड बायो गैस प्लांट का रिमोट के माध्यम से लोकार्पण किया और बायो फ्यूल आधारित प्रदर्शनी भी देखी।

उज्ज्वला योजना कब शुरू हुई

कार्यक्रम में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी भी वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये मौजूद थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि 2016 में उप्र के बलिया से आजादी की लड़ाई के अग्रदूत मंगल पांडेय की धरती से उज्ज्वला गैस योजना का पहला चरण शुरू हुआ था।

कहा से शुरू हुई उज्ज्वला योजना 2.0

इस बार बुंदेलखंड की वीरभूमि महोबा से उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी की उपस्थिति में दूसरा चरण शुरू हो रहा है। बुंदेलखंड ने देश की आजादी को ऊर्ज दी। रानी लक्ष्मीबाई, दुर्गावती, छत्रसाल समेत आल्हा-ऊदल जैसे वीरों की यह धरती रही है। प्रधानमंत्री ने उज्ज्वला योजना के पहले चरण की लाभार्थी उत्तराखंड की बूंदी, मध्यप्रदेश के भोपाल की सुनीता, गोवा की एकता चोपडेकर, पंजाब के अमृतसर की आशा, उप्र के गोरखपुर की किरन देवी व उनकी बेटी से बातचीत भी की। सभी ने प्रधानमंत्री की सराहना की।

वीर भूमि महोबा की कई सिंचाई परियोजनाएं अंतिम चरण में हैं। जल जीवन मिशन से पेयजल संकट जल्द ही खत्म होगा। यह बातें मंगलवार को महोबा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उज्ज्वला-2.0 योजना शुभारंभ के मौके पर कहीं। इस दौरान उन्होंने 10 लाभार्थियों को योजना के तहत गैस कनेक्शन के प्रमाण पत्र दिए।

उन्होंने कहा कि आज वीरभूमि महोबा से बुंदेलखंड की बदलती तस्वीर पूरा देश देख रहा है। झाँसी में तीन हजार एकड़ जमीन की प्रक्रिया तेज है, जबकि चित्रकूट में डेढ़ सौ एकड़ जमीन ली जा चुकी है। कानपुर अलीगढ़ व आगरा में भी तेजी से काम हो रहा है।

वर्षों से पानी के लिए अभिशप्त बुंदेलखंड में प्रधानमंत्री ने हर घर जल योजना से नया कीर्तिमान गढ़ा है। जल्द सबको शुद्ध पानी घर घर मिलेगा। सिंचाई के लिए महोबा की अर्जुन सहायक, बंडई समेत अन्य परियोजनाओं का काम अंतिम चरण में है।

पाइप पेयजल योजना का 40 फीसद काम हो गया है। बुंदेलखंड के चित्रकूट, ललितपुर को एयरपोर्ट की सौगात मिली है। प्रधानमंत्री उज्ज्वला गैस कनेक्शन योजना के कारण अब प्रदेश में 3.25 करोड गैस कनेक्शन हो गए हैं। 2014 से पहले कनेक्शन था, पर सिलिंडर मिलना दिवास्वप्न था।

उज्वला 2.0 के लिए पात्रता

  • इस योजना में केवल महिलाओं को ही योजना का लाभ दिया जाएगा।
  • आवेदन करने वाली महिला की उम्र 18 वर्ष होनी अनिवार्य है।
  • आपके घर में किसी अन्य सदस्य के नाम पर ओएमसी एलपीजी गैस कनेक्शन नहीं होना चाहिए।
  • निम्नलिखित श्रेणियों में से किसी से संबंधित वयस्क महिला – अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), अति पिछड़ा वर्ग (एमबीसी), अंत्योदय अन्न योजना (एएवाई), चाय और पूर्व चाय बागान जनजातियां, वनवासी, द्वीप और नदी द्वीप समूह में रहने वाले लोग, एसईसीसी परिवारों (एएचएल टिन) या 14 सूत्री घोषणा के अनुसार किसी भी गरीब परिवार के तहत सूचीबद्ध हैं।

उज्जवल 2.0 के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • उज्जवला कनेक्शन लेने के लिए ई-केवाईसी होना बहुत ही आवश्यक है।
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड या फिर परिवार के सदस्यों की सूचना प्रदान करने वाला राज्य सरकार के द्वारा दिया गया दस्तावेज।
  • परिवार के सभी सदस्यों का आधार कार्ड।
  • बैंक खाता संख्या और आईएफएससी कोड
  • परिवार की स्थिति के समर्थन में अनुरूप केवाईसी।

यह भी पढ़े –

Follow us on Google News:

savita kumari

मैं सविता मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं और मुझे शुरू से ही लिखना बहुत पसन्द है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। मैं candefine.com की कंटेंट राइटर हूँ मैं अपने अनुभव और प्राप्त जानकारी से सामान्य ज्ञान, शिक्षा, मोटिवेशनल कहानी, क्रिकेट, खेल, करंट अफेयर्स के बारे मैं जानकारी प्रदान करना मेरा उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *