व्यायाम के लाभ? व्यायाम से मिलती है उर्जा, रोज कितना व्यायाम करना चाहिए?

व्यायाम के लाभ

व्यायाम के लाभ (Vyayam Ke Labh), स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है। फिर भी लोगों की आम धारणा है कि व्यायाम से केवल शरीर के अंग पुष्ट होते हैं। यह बात अर्द्ध-सत्य ही है। सच तो यह है कि व्यायाम से शरीर ही नहीं बल्कि आपका मन भी एक नई ऊर्जा से पूरित हो जाता है और रात का खाना खाने के बाद टहलने की आदत डाले।

व्यायाम के लाभ (Vyayam Ke Labh)

व्यायाम के लाभ
व्यायाम के लाभ (Vyayam Ke Labh)

व्यायाम के लाभ (Vyayam Ke Labh)

अनेक शोधों व अध्ययनों से यह सिद्ध हुआ है कि व्यायाम करने से आपका बिगड़ा मूड ही सही नहीं होता बल्कि आपके अंदर एक नया जोश और ऊर्जा-तरंगें पैदा होती हैं। में रक्त संचार की प्रक्रिया सुचारु रूप से संचालित होती है।

चिकित्सकों के अनुसार

चिकित्सकों की मान्यता है कि शरीर और मन के बीच अटूट संबंध है। इसलिए व्यायाम से अवसाद (डिप्रेशन), उदासी और शारीरिक-मानसिक थकान आदि शिकायतें दूर होती हैं और व्यक्ति का हौंसला बुलंद हो जाता है। मस्तिष्क की कार्यक्षमता व सक्रियता बढ़ती है। इस कारण मन में शांति का संचार होता है।

ध्यान रखें यदि व्यायाम करने से आपके शरीर में कोई प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, तो कसरत करने के कार्यक्रम को स्थगित कर दें। उन कारणों पर विचार करें, जिनके चलते यह प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इस स्थिति में आप अपने डाक्टर से परामर्श लें।

जरूरी समझें, तो किसी व्यायाम विशेषज्ञ की राय लें कि मुझसे कहां पर चूक हुई है। यह जरूरी नहीं कि व्यायाम प्रशिक्षक आपके खान-पान (डाइट) के बारे में भी संपूर्ण जानकारी रखता हो। इस संदर्भ में आवश्यक समझें तो डाइटीशियन से भी परामर्श ले सकते हैं।

प्रतिदिन कितना व्यायाम करना चाहिए

प्रतिदिन 30 मिनट तक व्यायाम किया जा सकता है, पर कुछ अध्ययनों से यह सिद्ध हुआ है कि आप एक दिन में 60 मिनट तक व्यायाम कर सकते हैं। बेहतर हो कि इस अवधि को आप 30-30 मिनट के दो सत्रों में विभाजित कर लें। व्यायाम के समय में किसी तरह के अवरोध से बचें और एक ही बैठक (सिटिंग) में कार्यक्रम पूरा करें।

वजन कम करने के लिए व इसे संतुलित रखने में भी व्यायाम सहायक है। मोटापे से ग्रस्त व्यक्तियों के लिए तेजी से टहलना एक अच्छा व्यायाम है। इस कसरत की विशेषता यह है कि इसमें न तो आपको पैसा ही खर्च करना पड़ता है और न ही किसी तरह का जोखिम उठाना पड़ता है।

कुछ लोगों को प्रारम्भ में तेजी से टहलने में असुविधा महसूस हो सकती है, पर यदि आप घर में ही ‘ट्रेड मिल’ पर अभ्यास करें, तो आप में तेजी से टहलने की क्षमता विकसित हो जाती है। याद रखें, तेजी से टहलने की इस प्रक्रिया में आपको दिन-ब-दिन अपनी क्षमता बढ़ाते रहना है।

जो लोग व्यायाम के जरिये सिर्फ वजन कम करना चाहते हैं, उन्हें भार उठाने व सहने वाले व्यायाम करने चाहिएं। कुछ अध्ययनों से यह पता चला है कि भार न उठाने वाले व्यायामों (जैसे तैरना और साइकिल चलाना) की तुलना में भार उठाने वाले व्यायाम कहीं ज्यादा का साबित होते हैं।

यह भी पढ़े –

Leave a comment

Your email address will not be published.