वर्ल्ड लाफ्टर डे क्यों मनाया जाता है? विश्व हास्य दिवस कब मनाया जाता है?

वर्ल्ड लाफ्टर डे क्यों मनाया जाता है (World Laughter Day Kyu Manaya Jata Hai) :- वर्ल्ड लाफ्टर डे हर वर्ष मई के पहले रविवार को मनाया जाता है। विश्व हास्य दिवस की शुरुआत 11 जनवरी 1998 से हुई। पहली बार विश्व लाफ्टर मुंबई में डॉ. मदन कटारिया द्वारा मनाया गया था इसके पीछे उनका उद्देश्य समाज मैं लोगों के प्रति मन में बढ़ते तनाव को कम करना और एक सुखी जीवन व्यतीत करने का था। इसके बाद से हर वर्ष मई महीने के पहले रविवार को विश्व लाफ्टर डे के रूप में मनाया जाता है।

वर्ल्ड लाफ्टर डे क्यों मनाया जाता है (World Laughter Day Kyu Manaya Jata Hai)

वर्ल्ड लाफ्टर डे क्यों मनाया जाता है
World Laughter Day Kyu Manaya Jata Hai

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति अपने दिनचर्या को लेकर काफी तनाव में रहते हैं जिसके कारण अनेक तरह की शारीरिक समस्या उत्पन्न होने लगती है। हंसने से तन और मन दोनों में उत्साह बना रहता है जो एक प्रकार से दवा का काम करता है।

यह भी पढ़े – पीएम किसान योजना का पैसा कैसे चेक करें? जाने इसका स्टेप्स क्या है?

डॉक्टर मदन कटारिया का क्या कहना है

डॉक्टर मदन कटारिया का यह मानना है कि हर व्यक्ति के चेहरे का भाव उसकी भावनाओं पर भी प्रभाव डालता है। विश्व लाफ्टर डे उत्सव मनाने से विश्व भर में शांति और सकारात्मक प्रभाव मनुष्य पर डालता है जिसके माध्यम से लोगों के बीच आपसी मतभेद दूर होते हैं और भाईचारा भी बढ़ता है। इसे और बढ़ावा देने के लिए लगभग 106 से अधिक देशों मैं कई जगह पर लाफ्टर क्लब का निर्माण किया है।

हंसना क्यों जरूरी है?

  • हंसने से शरीर में रक्त संचार बढ़ता है जिसके कारण पूरे शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है।
  • तनाव ग्रसित व्यक्तियों को मनोवैज्ञानिक द्वारा हंसने की सलाह दी जाती है।
  • हंसने से तनाव दूर होता है और मन प्रसन्न रहता है।
  • शरीर में फुर्ती आती है और रक्त संचार अच्छा बना रहता है।
  • ब्लड प्रेशर कम होता है।
  • हंसने से मांसपेशियों के खिंचाव को कम करता है।
  • हां हंसने से शरीर की अंदरूनी दर्द में आराम मिलता है।

हास्य कलाकार चार्ली चैपलिन

सबसे पहले चार्ली चैपलिन के द्वारा हास्य नाटक शुरू किया गया था जिसकी काफी प्रशंसा की गई थी और दर्शकों को काफी पसंद भी आया था। तभी से सभी लोग चार्ली चैपलिन को हास्य कलाकार के रूप में जानने लग गए। इस नाटक को बनाने का एकमात्र उद्देश्य यह था कि लोगों को हसाया जा सके ताकि वह अपने स्ट्रेस को और तनाव को दूर कर सकें।

यह भी पढ़े – संडे की छुट्टी कब से शुरू हुई? भारत में संडे की छुट्टी कब से लागू हुई?

Follow us on Google News:

savita kumari

मैं सविता मीडिया क्षेत्र में मैं तीन साल से जुड़ी हुई हूं और मुझे शुरू से ही लिखना बहुत पसन्द है। मैं जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएट हूं। मैं candefine.com की कंटेंट राइटर हूँ मैं अपने अनुभव और प्राप्त जानकारी से सामान्य ज्ञान, शिक्षा, मोटिवेशनल कहानी, क्रिकेट, खेल, करंट अफेयर्स के बारे मैं जानकारी प्रदान करना मेरा उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *